मणिपुर में कांग्रेस ही कांग्रेस

मणिपुर में दोनों संसदीय सीटों पर कांग्रेस का कब्जा रहा.  भीतरी मणिपुर (इनर) में डॉ. टी मैन्य और बाहरी (आउटर) में थांगसो बाइटे ने सफलता हासिल की. यह मणिपुर के इतिहास में पहली बार हुआ है कि लोकसभा की दोनों सीटों पर कांग्रेस ने अपने पांव जमाए.  भीतरी (इनर) की सीट में निवर्तमान सांसद डॉ. थोकचोम मैन्य ने उनके करीब प्रतिस्पर्धी सीपीआई के डॉ. नर सिंह को 30,960 वोट से परास्त किया. पूर्व केंद्रीय मंत्री एमपीपी के प्रत्याशी थौनाउजम चाउबा को 1,01,787 वोट मिला, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के प्रत्याशी डब्ल्यू निपामचा को 34,098 वोट ही मिला.

इनर
प्रत्याशी के नाम                     पार्टी                      कुल वोट
डॉ थोकचोम मैन्य            आईएनसी                230876
थौनाउजम चाउबा              एमपीपी                   101787
एम नर सिंह                     सीपीआई                 199916
डब्ल्यू निपामचा                 बीजेपी                      34094
एल क्षेत्रानी देवी              आरबीसीपी                   1290
अब्दुल रहमान                   निर्दलीय                   13805
नोंगमाइथेम होमेंद्रो            निर्दलीय                     1450
कुल वोट                                                  583226

आउटर
प्रत्याशी के नाम                पार्टी                        कुल वोट
थांगसो बाइटे                    आईएनसी                 344517
डी लोली अदानी                 बीजेपी                      93052
एलबी सोना                       एनसीपी                   79849
एमवाई हाउकिप                 आरजेडी                    4859
थांगखागिन                          एलजेपी                    1252
मनि चरानमै                        पीडीए                     224719
वी रोज                                 निर्दलीय                   4735
एम रोज हाउकिप                निर्दलीय                    1128
एल गांगते                            निर्दलीय                   2070
कुल वोट                                                              756181

निर्दलीय प्रत्याशियों में ए हमन और एन होमेंद्रो को क्रमशः वोट 13,805 और 1,450 मिला. आरबीसीपी के प्रत्याशी एल क्षेत्रानी को 1,290 वोट मिले. इनर के सफल प्रत्याशी डॉ. मैन्य को पिछले लोकसभा चुनाव में 1,54,055 वोट मिले थे, जबकि इस बार 76,821 वोट बढ़ कर मिले. डॉ मैन्य को सबसे ज्यादा वोट दिलाने वाली संसदीय सीट अंद्रो है, जहां से 16,280 वोट मिले. सबसे कम उनको शिंगजमै संसदीय सीट से 2,626 वोट मिले. सीपीआई को सबसे ज्यादा वोट लिलोंग संसदीय सीट से 10,898 मिले, जबकि सबसे कम वोट नंबोल से सीपीआई को 1,618 वोट मिला. जिले के स्तर पर वोट की संख्या इंफाल पूर्व में कांग्रेस को 79,610 वोट और सीपीआई को 69,212, इंफाल वेस्ट में कांग्रेस को 77,765,  सीपीआई को 75,621, थौबाल जिले में कांग्रेस को 29,330 और सीपीआई को 27,845 और विष्णुपुर जिले में कांग्रेस को 44,132 और सीपीआई को 27,212 वोट मिले. बाहरी (आउटर) में भी इंडियन नेशनल कांग्रेस के प्रत्याशी थांसो वाइटे ने पीडीए के प्रत्याशी निवर्तमान सांसद मनि चरानमै को 1,19,798 से भी ज्यादा वोट से हराया. बाइटे को कुल  3,88,517 वोट मिले, जबकि मनि चरानमै को 2,24,719 वोट मिले. 16 मई को आउटर मणिपुर संसदीय सीट के रिटर्निंग अफसर थौबाल जिले के डीसी आरके दिनेश ने कांग्रेस के प्रत्याशी थांसो वाइटे के सफल होने की घोषणा की. आउटर में तीसरे स्थान पर बीजेपी के डी लोलि अदानि को  93,052 मत मिले, चौथे स्थान पर एनसीपी के एलबी सोना रहे, जिनको 79,849 वोट मिले. आरजेडी के एमवाई हाउकिप को 4,859, निर्दलीय वेली रोज को 4,735, निर्दलीय एल गांते को 2,070, एलजेपी के थांखानगिन को 1,252 और निर्दलीय रोज मांसी हाउकिप को 1,128 वोट मिले. सांसद थांसो वाइटे को सबसे ज्यादा वोट साइकुल संसदीय सीट से मिले, जहां से उनको 27,516 वोट मिले और सबसे कम वोट माओ संसदीय सीट से यानी 850 मत मिले. पीडीए के प्रत्याशी मनि चरानमै को सबसे ज्यादा 22,194 वोट चिंगाई संसदीय सीट से मिला और सबसे कम 106 वोट सुगनु संसदीय सीट से ही मिले. मणिपुर के लोकसभा के दोनों एमपी और एक राज्यसभा के एमपी के साथ कुल मिला कर तीनों एमपी कांग्रेस के ही हो गए. इनमें से एक को तो मंत्रिमंडल में शामिल करवाने के लिए राज्य सभा के सांसद रिशांग कैसिंग ने सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह से मांग की. अब इन दोनों सांसदों का सर्वप्रथम कार्य यही होगा कि आतंकवादी समस्या खत्म हो जाए. दोबारा सांसद बने डॉ. मैन्य ने तो जनता को यह आश्वासन दिया कि उनकी प्राथमिकता प्रदेश में शांति व्यवस्था कायम रखना है.
बॉक्स