Baba Ramdev is exposed by Pramod Krishnam (Exclusive)


Broadband Internet connection required to playback video
  • Sharebar


चौथी दुनिया के लेखों को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए बॉक्‍स में अपना ईमेल पता भरें::

Link for share:

44 Responses to “Baba Ramdev is exposed by Pramod Krishnam (Exclusive)”

  • sonu kharb says:

    yeh report dikhane ke liye congress se kitne ruppeee liye tumne? tum bhi chor ho .

  • sonu kharb says:

    lag raha hai chauthiduniya walo ko bhi congress se Ruppeee milne chalu ho gye. tum bhi loot lo desh ko. shabash chauthiduniya walo .

  • sanjay gupta says:

    poramod krishnam jaise pakhandi ke vyan ke adhaar par chouthi dunia jaisa vishvasniya akhbar ramdev ke khilaf niradhar arop laga raha hai.ye pramod digvijay singh ka chamcha hai,eske chakkar main chouthi dunia kyon apni sakh kho raha hai?

  • Kuldeep Sehdev says:

    this gentleman,pramod krishnam,as adressed by you,looks like a saint,but surprisingly,he resembles with a fraudester whose sting operation was telecast on a number of national t v channels some time back.i request you to show that video too, to your esteemed viewers so that they could come to know more about this thug.while watching this interview,a glance of the scalps of both(intervier and the interviewed)makes one believe that there is some genetic relation between the two.please let your viewers come to know the truth.thank you

  • r.c.vivek says:

    अज के समय में किसीपर भी बिश्वास नही किया जासकता क्यों की अज की तारिक में ९०% दागी हैं चाहें राम देव हों या राजनेता , हम सभी रास्ट्र भावना से दूर
    हैं. कोई भी देश के संभिधान को मानने के लिया राजी नहीं हेँ यही देश के लिया बिंडबना हे .

  • ajit bhosle says:

    मदन तिवारी जी को क्षमा किया जाए ये नहीं जानते ये क्या कह रहे हैं, शायद बिल्ली की नज़र में छीछ्डे ही छीछ्डे दीखते हैं इसलिए इन्हें भी हर आदमी बे ईमान नज़र आता है.

  • प्रेम says:

    संत समाज में बाबा रामदेव के विरोध में आवाज़ें निस्संदेह उठें, लोकतंत्र में उसके इस अनुपयुक्त व्यवहार पर कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए| लेकिन मेरा उनसे एक प्रश्न है| भारत देश में मंदिरों, मस्जिदों, गुरुद्वारों, और गिरजाघरों की संख्या विद्यालयों, उच्च विद्यालयों, विश्वविद्यालयों, चिकित्शाल्यों, और सभ्य समाज में ऎसी ही अनेक संस्थाओं की कुल संख्या से बहुत अधिक है इस पर भी औसत भारतीय में चरित्र की दरिद्रता क्यों है? यदि संत समाज मेरे शब्दों का अर्थ नहीं समझ पाता तो मैं उसका ध्यान समस्त भारत में सर्वव्यापी भ्रष्टाचार और अनैतिकता की ओर आकर्षित करते हुए पूछूँगा कि उसने यह सब कैसे होने दिया? यदि संत समाज विशिष्ठ के ब्रह्मदंड के आचरण को निभाता मूक बना रहा है तो अब उसे बाबा रामदेव के चुनौती देने पर क्यों आपत्ति है? मैं बहुधा ऎसी गंभीर स्थिति को ठीक से समझने समझाने हेतु साधारण दृष्टान्त का सहारा लेता हूं| एक व्यक्ति नें बड़े दीन भाव में अपने मित्र से अपनी पारिवारिक कठिनाई को दूर करने का उपाय पूछा| उसके चार बेटों में एक वकील, एक डाक्टर, और एक इंजिनियर के होते चौथा बेटा नालायक और निकम्मा था| समस्या थी कि उसे किस व्यवसाय में लगाया जाये| मित्र बोला उसे मंदिर खोल दो| आज के संत समाज में चौथे बेटे जैसों का अधिक बोलबाला है| मुझे नहीं मालुम उस दिशा से क्यों विरोध होता है और क्यों आवाज़ें उठती हैं|

  • ajit bhosle says:

    अरे होश में आजाओ उल्लू के चरखो (बाबा रामदेव के विरोधियों) इस देश में जब देश के तारनहार चुपचाप लूटने मैं लगे है तो किसी को तो सामने आना पडेगा, एक बाबा से कुछ आशा बंधी है तो तुम लोग टुच्ची हरकतों पर उतर आये, मूर्खों तुम्हे कुछ मालूम है जो टैक्स तुम लोग भरते हो उसका साठ प्रतिशत ये लोग हड़प कर विदेशों में जमा कर देते हैं, बाकी बचे पैसे से दीगर काम करते हैं, कभी विरोध तो करो की हम टैक्स क्यों दे जब हमारा पैसा देश के काम आ ही नहीं रहा, या तो तुम लोग अक्ल से काम लेना नहीं चाहते या ऐसी गलीच जिंदगी ही तुम्हारा ध्येय है,

  • Rajesh says:

    ये प्रमोद कृष्णन कांग्रेसी रह चुका है पहले और अपने आप को कल्की अवतार बताता है | इतना ही काफी है इसका चरित्र जानने के लिए
    http://www.kalkidham.org/about-guruji.htm

  • ANIL GAIKWAD says:

    “बाबा रामदेव” की बात को समझो और विरोधी की चाल को समझो.
    भारत स्वाभिमान आन्दोलन को समझो और विरोधी का अंत समझो..
    (होश में आओ देशद्रोहीयो, हम बाबा रामदेव का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे, नहीं करेंगे)

  • Bhawna Malik says:

    एक उन्न्दा इन्तेर्विएव . अभी तक बाबा रामदेव के खिलाफत राज्नेतायो से सुनी थी पर संत समाज की प्रतिक्रिया पहली बार दिखाई गयी. पर क्या से इन्तेर्विएव बाबा रामदेव तक पहुंचेगा.?
    DR. मनीष बधाई के पात्र हैं. महसूस हुआ के अभी भी पत्रकारिता पूरी तरह मरी नहीं है.

  • The India Jat says:

    मदन तिवारी मैं बिमारी ….तिवारी तेरी बिमारी का इलाज कर्वाआ ,, बाबाजी के योग किया कर bimaar

  • sanatan says:

    प्रमोद जी बाबा रामदेव जी तो योग और आयुर्वेद के द्वारा देश ही नहीं अपितु विश्व में भारत का नाम उठा दिया है \प्रत्यक्ष रूप से लाखो परिवार को स्वाश्थ्य और रोजगार दिया /बाबा रामदेव दवाओ का प्रचार प्रसार कर रहे है तथा बिक्री कर रहे है तो इसमें खराबी क्या है कोई दारू विस्की का प्रचार तो नहीं कर रहे है देश के नागरिक होने के नाते उनको भी देश की राजनीति भ्रष्टाचार और कालेधन पर बोलने का अधिकार है और बोलना भी चाहिए क्यों की किसी को तो आगे आना ही पढ़ेगा.अब रही बात आपकी तो मुझे तो लगता है आप तो देश को गर्त में ले जाने वाली पार्टी के दलाल है देश का दुर्भाग्य रहा जो आजादी के बाद कांग्रेस सत्ता में आई/. देश के आदर्श बोश;आजाद भगतसिंह है न की एक परिवार के बंश /बाबा ने अपने अभियान से यदि देश का भला कर दिया तो देश भक्तो की तरह वह भी अमर हो जायेगे /आज कोई भी संत वन्देमातरम नहीं गता अपितु बाबा तो मंच पर आते ही भारत माता की जय .वन्देमातरम का गान करते है आपको तो पूरा वन्देमातरम भी yad नहीं होगा कृष्णं जी

  • रामदेव तो ठगी कर हीं रहा है लेकिन तुम भी एक काईंया टाईप के आदमी लगते हो । संत और समिति । ्प्रमोद जी आप कुछ भी हो सकते है लेकिन संत नही हो सकते । कोई संगठन बनाने का अर्थ हीं है किसी चीज की चाह । संत का कोई उद्देश्य भी नही होता , संत के स्तर पर पहुंचना तो खुद हीं एक उद्देश्य है । जाओं भाई प्रमोद मजे करो ।

  • YOGESH PUNJAB says:

    यह जो आचार्य परमोद क्रिशन बोल रहें HAI मैं बिलकुल सहमत नहीं हूँ सिर्फ बाबा राम देव जी ही ऐसे संत है जिन हो ने आम आदमी की आवाज को उठाया, बाबा राम देव जी सिर्फ वोह कर RAHE है जो आम आदमी के अंदर चल रहा है. ऐसा कोन BHARTIYA है जो CORRUPTION से परेशां नहीं है. यह जो POLOTICIANS हजारों CRORES के GAPLE कर रहे वोह सुब परमोद KRISHAN जी को MANJOOR है. मैं तो कहता हूँ अगर बाबा राम देव जी THORA बोहत MANIPULATE कर के हमारे भारत MAI सुधार कर दे तो भी हम सारे भारतीय उन के SAATH है

  • R.C.VIVEK says:

    स्वामी राम देव अपना कम तो करते नहीं जो करना हे इस देश में छुआ छत अज भी जिन्दा हे पहले उसे मिटाना कहिये तब उनें प्रधान मंत्री बने की कोशिश करना छाए

  • Kamal says:

    तुझे नहीं लगता की भारत का अपमान हो रहा है … मुझे लगता है

  • Kamal says:

    तुमने देश को कांग्रेस के हाथ मैं देने से पहले क्यों नहीं सोचा…

  • ravinder says:

    आप के सभी सवालों का जवाब रोज स्वामी राम देव जी आस्था चैनल पर हर रोज देते हैं .
    सुबहे 5.00.AM से 7.30AMआस्था देखिये , या शाम 8.00 से 9.00 PM आस्था चैनल या संस्कार चैनल 9.00. PM से 10PM हर रोज .
    जब से स्वामी जी ने राजनीती में अच्छे चरित्र के , शिक्षित , निष्कलंक , लोगो को उतारने की घोषणा की हैं सभी राजनितिक दल उनके पीछे पड़ गए हैं . पर अब भ्रस्ताचार के अति हो गए हैं और राजनीती का शुद्धिकरन बहुत जरुरी हो गया है . आप के जान कारी के लिए बता दूँ स्वामी जी के ट्रस्ट की अनेको बात जाँच/ औडिट हो चुकी है , सभी रिकॉर्ड पुरे हैं . एक एक रूपये का हिसाब रहता हैं . ये सब अपनी कुर्सी हिलती देख कर बोखलाए हुए लोग हैं. जो सच्चे लोग है उनकी जाँच कभी भी की जा सकती है , आपका स्वागत हैं

  • Bandhuon avam bhagniyon ap sabke vichar apne taraf se ati uttam hai lekin yah bhi to dekhiye kitna jan samuh baba ramdev ke sath hai.Raha bat buisness ka unke dwara banai gayi vastuo ka upyog kijiye khud apko uske bare mein ati sigrah gyan ho jayega.Kya sant des ki baat nhi kar sakta. Har ek bhartiya ko hak hai apne matribhumi ke bare mein sochne ka.Unke kahne se hi media ne swiss money ki bat uchali ,aur supreme court ne sarkar ko phatkar lagai.
    Sant jab khade hote hai to dharm ka bhao jan jan mein jagrit hone lagta hai ,mai Btech ka chatra hun mai kyon iske bare mein likh rha hun. Jara sochiye mere jaise kitne hi vidyarthio ne swadeshi ka upyog karna suru kar diya hai. Ramayan kal se hi santo ki bhumika spast hai.Alexander ne jab bharat par akraman kiya to chanakya rishi ne hi chandragupt ka nirman karke bharat ko azad kiya tha.
    Yah sab itihas ki batein kyon kar rha hun ye ap ati sigrah samajh hi gaye honge.
    Bas aplog bhi apne vichar ke anusar kale angrejo ko bhagane mein sahyog de.
    Dhanyabad
    Upnishad mishra

  • shivaji arya says:

    अगर सारे प्रत्याशी भ्रस्टाचारी है तो क्या आप अपने वोट की शक्ति का प्रयोग करके परिवर्तन ला सकते है ? दुर्भाग्य से देश में इस समय यही दशा है,लंका में सब छप्पन गज के है,एक से बढ़कर एक .सिस्टम को बदलने के लिए आपमें ताकत होनी चाहिए. रामदेव के पास ये ताकत है.
    अगर वो हमें चुनाव में इमानदार प्रत्याशी देते है तो इसमें हमारा नुकसान क्या है ?स्वामी रामदेव राजनीति में आ नहीं रहे उसे बदल रहे है .अब हम थोड़े न तय करेंगे कि स्वामी रामदेव को क्या करना है . वो एक सन्यासी है,हमारे देश में समय समय पर सन्यासियों तथा संतो ने ऐसी क्रान्तिया क़ी है जिसमे उन्होंने सत्ता में दखल दिया लेकिन खुद कोई पद नहीं लिया जैसे चाणक्य ने चन्द्रगुप्त को राजा बनाया और सत्ता में परिवर्तन किया .स्वामी दयानंद ने राजाओ को निशाने पर लिया .जब देश पर आक्रमण हुए तब कई संत जो अहिंसा
    का पाठ पढ़ाते थे खुद शस्त्र लेकर मैदान में कूद पड़े .जो संत स्वामी रामदेव क़ी बुराई करते है वो खुद संत है ही नहीं .क्या संत केवल भगवान् क़ी पूजा ही करता है .रास्ट्र लुटता रहे और संत कीर्तन करता रहे . उसका खून क्यूँ ना खौले .स्वामी रामदेव जी क्या गलत कर रहे है जो इन भ्रस्ताचारियों से लड़ रहे है.स्वामी रामदेव वही कर रहे है जो महर्षि पतंजलि ने किया योग ,आयुर्वेद ,और व्याकरण स्वामी रामदेव भी पतंजलि योगपीठ ,पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ,और गुरुकुलो से ये तीनो काम कर रहे है.अगर विश्वामित्र ,द्रोणाचार्य ,संदीपन ,समर्थ गुरु रामदास,चाणक्य दिशा नहीं देते तो भगवान् राम ,अर्जुन,कृष्ण,छत्रपति शिवाजी ,चन्द्रगुप्त देश को कैसे बचाते और कैसे सँभालते .देशवाशियों स्वामी जी कुछ ऐसा नहीं कर रहे जो संत मर्यादा के खिलाफ हो.

  • nand kumar says:

    असल में कोर्पोरत दुनिया को आज विचारधारा की राजनीती ,राजनैतिक लोकतंत्र नहीं चाहिए ,चूँकि जनता में गुस्सा है उसे भ्रस्ताचार से युद्ध के नायक के रूप में बाबा रामदेव को येही कार्पोरत दुनिया प्रायोजित कर रही है और हमारे प्रधानमंत्री उसी दुनिया के आदमी है .बाबा रामदेव से पूछिये की जो व्यवस्था काले धन को पैदा कर रही है ,जहा मजदूरे के अधिकार छीने जा रहे हों ,रक्षा बजट में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा उधार लेकर खर्च किया जा रहा हो वहां विदेश में जमा कला धन आ भी जाये तो वह भी और कला धन और अपराधी पैदा करेगा .जब तक भ्रस्ताचार के खिलाफ लड़ाई व्यवस्था परिवर्तन की और नहीं जाता तब तक आम आदमी शोषित ही रहेगा ,बाबा का नेतृत्व येही कर रहा है.जनता के गुस्से को राजनीतिक दिशा देना होगा ,इसके लिए विचारधारा की पार्टियों को आगे आना होगा.

  • RANJNA MISHRA says:

    कौन बाबा ,कैसा स्वामी ? कैसा संत ? जो व्यक्ति इतना भी नहीं जानता कि ‘संतन्ह को का सीकरी सों काम’ वो इस विशाल देश कि जनता का नेत्रत्व करने कि जिद कर रहा है . कहता है ‘मैया मैं तो चाँद खिलौना लैंहों’ उसके बारे में सबसे पहले प्रख्यात वुद्धिजीवी ,लेखिका और सांसद वृंदा कारात ने भांडा फोड़ा था

    • deepak says:

      kon vrinda karat madam….whi jinki party kahti hai ki 22000square km jo hamne china ko di hai …use jane do wo to banjar thi ….jisko ye pata nahi ki maa agar karoooooooop ho , kaam na kr paaaaaaa rhi ho use bahar nahi nikala jata is desh me balki uski sewa ki jati hai/……agr babaaaa g desh sudharne ka paryas kr rhe hai to isme apko kyun dard ho rha hai /……madam jo pure desh me yog kranti laaaaaaa sakta hai wo deash me b kranti laa sakta hai…..one thing which we hav adopted from english culture that we hav bcom master in pulllllling legs …congs to u and vrinda to keep this legacy alive

    • Ranjana Mishra ke से मैं ye poochchna chahata हूँ की अगर कोई संत, आम आदमी इस देश मैं अपने पैसे का hisab mangta है to vh bebkoof ho gya? ये राजनीती नहीं है मैडम, धर्मनीति है और adharmi ko नहीं samjhate. Shastro मैं varnan aata है कि ४ लाख prakar ke manushya hote है to aap khud andaza laga leejiye ke ap kis shrenee मैं आती है. Lanchchan lagana aasan है मगर khud kuchch kar ke dikahna muskil है. अज से पहले कौन जनता था कि kala dhan विदेशो मैं है और वो bhi netaon का.

      • मैं बार -बार कहता हूं, जनता को , हम जैसे लोगों को अपने ट्रस्ट का हिसाब देखने दो । यह भी चैलेंज किया है की अगर तुम्हारा ट्रस्ट और तुम्हारी संपति दो नंबर की नही साबित होगी तो जिवन भर तुम्हारा गुलाम रहूंगा ।

  • ramesh mishra chanchal says:

    श्री प्रमोद कृष्णम और चौथी दुनिया को धन्यवाद .कि सच कहने कि हिम्मत दिखाई .यह एक देशभक्तिपूर्ण आलेख है .बधाई

    • Kamal says:

      राजीव दिक्सित जी ने खुद मेडिकल ऐड लेने से मन कर दिया था.. उनका १-१ व्याखान सुनोगे (आखरी दिन तक का) तो इसे पता चल जायेगा की राजीव और रामदेव का रिश्ता क्या था….

  • ramesh says:

    फरवरी २००६ में यह पी जी आई चंडीगढ़ में भर्ती था. मैं खुद वहां था. पर इसने मीडिया में नहीं आने दिया. आप अब भी वहां जा कर जांच कर सकते हैं.

  • ramesh says:

    अगर इसके योग से सब ठीक हो जाता है तो यह खुद का ही इलाज क्यों नहीं कर लेता है एक आँख से भेंगा है.

  • deepak bhardwaj says:

    सर एक बार बाबा के गाँव जाकर भी देखो और उसे छापो. पुरे देस को मेडिसन और योग से ठीक करने का दावा कर रहे हैं लेकिन अगर उनके दादा के हालत देखे तो नजारा ही अलग है बहुत बुरे हालत है.

  • कौन बाबा ,कैसा स्वामी ? कैसा संत ? जो व्यक्ति इतना भी नहीं जानता कि ‘संतन्ह को का सीकरी सों काम’ वो इस विशाल देश कि जनता का नेत्रत्व करने कि जिद कर रहा है . कहता है ‘मैया मैं तो चाँद खिलौना लैंहों’ उसके बारे में सबसे पहले प्रख्यात वुद्धिजीवी ,लेखिका और सांसद वृंदा कारात ने भांडा फोड़ा था किन्तु जैसा कि इस देश का रिवाज है कि चाहे कोई हत्यारा ,बलात्कारी डकेत रंगे हाथों ही क्यों न पकड़ा जाये यदि उसने भगवा वस्त्र पहने हैं तो वो अक्षरधाम मंदिर के गर्भ गृह में बलात्कार या कांची काम कोटी पीठ के अन्दर हत्या करा सकता है .या रामदेव तो इन सबसे खतरनाक जंतु है ,इसके मष्तिष्क के अन्दर सेकड़ों हिटलर ,तोजो ,मुसोलनी और ईदी अमीन कुलबुला रहे हैं .इसे तो बाबा ,स्वामी या संत कहना ,इन पवित्र शब्दों का अपमान है .
    श्री प्रमोद कृष्णम और चौथी दुनिया को धन्यवाद .कि सच कहने कि हिम्मत दिखाई .यह एक देशभक्तिपूर्ण आलेख है .बधाई.

  • kuvar paratp says:

    ये बाबा जो बोल रहे हैं वो ही कितना साफ पाक हैं … ये अपने अतीत में क्यों नहीं झांकते हैं … ये सारे बाबा भोगी हो चुके हैं इनके खिलाफ भी बाबा रामदेव को हल्ला बोलना चाहिए क्योंकि बाबा रामदेव की प्रतिभा से घबराकर इस तरह की अनर्गल बातें कर रहे हैं … हर आदमी गलती करता है … सुरखुरू होता है इंसा ठोकरें खाने के बाद रंग लाती है हिना पत्थर पर घिस जाने के बाद …. मैं ये बात मानने को कतई तैयार नहीं हूं कि कोई आदमी अगर वर्तमान में ठीक काम कर रहा है तो उसका समर्थन नहीं करना चाहिए … यहीं तो हमारे अंदर सबसे बड़ी कमी है …..बाबा सबसे पहले आप अपने गिरेबां में झांकिए …. इसके बाद किसी के ऊपर कीचड़ उछालने की कोशिश करिए …… बाबा ये बताइए कि अगर बाबा रामदेव गोमूत्र बेंचते हैं तो आपको क्या तकलीफ है … एलोपैथिक दवाओं में तो कितनी तरह की चीजें मिलाई जाती हैं उनको भी बंद करा दीजिए ….

  • Rajinder Katoch says:

    The progenies of Kings are doing petty jobs today. In the fast changing society of hindus you cannot pin a sant for a certain job. Otherwise, tomorrow you will say a kumhaar(potter) cannot do agriculture or business. A carpenter has to do only wood work. This so called saint are SHABDVEER and suppoters of congress as they get support of congress in the form of land, money etc. BEFORE PROCEEDING ON ANYTHING I AND MILLIONS OF PEOPLE OF THIS COUNTRY WOULD LIKE TO KNOW WHEN YOU AND I WERE GIVEN DETAILS OF BABA RAMDEV MONEY. WHEN WILL MEDIA WILL GIVE DETAILS OF SONIA GANDHI OWNED TRUSTS, TRUSTS OWNED BY CONGRESS, THEIR TURNOVERS AND ALSO THIS SAINT PRAMOD KRISHAN. JUST A CAG ENQUIRY UNDER SUPREME COURT FOR LAST 10 YEARS DEALING OF SONIA GANDHI’S OWNED TRUSTS? WHY MEDIA IS NOT DARING TO DO THIS. IF YOU ARE CHAUTHI DUNIYA, HOW DIFFERENT YOU ARE FROM OTHERS?

  • रामदेव जी को प्रोत्साहन देना chahia हमारे पास कोई आप्शन नहीं
    है किसी भी पोलिटिकल पार्टी ने उन मुद्दों पर बात नै की जिसकी आज सभी को ज्जरुरत है जैसे काला धन भारस्ताचार असामाजिकता और भी कई /बाबा रामदेव ने कम से कम हमारी सबसे पौराणिक खोटी आयुर्वेद के लिया लोगो को पुनः जागरूक किया जो अपने आप मई चमत्कार से कम नहीं है

  • विकास कुमार says:

    मैं भारत का एक आम नागरिक हूँ , पिछले ६३ वर्षों में भारत को विश्व का नंबर वन देश बन जाना चाहिए था , लेकिन वो अभी तक नहीं बना है , इसका ज़िम्मेदार कोन है?

    मेने बार बार , बीजेपी या कांग्रेस को वोते दे कर देख लिया है , सभी ने लुटा है| इस बार मैं भारत स्वाभिमान को try करूँगा \|

    यदि आज के समय में किसी नेता के जीवन को आप देखेंगे तो आप पाएंगे की या तो वो , बलात्कारी है, या , चोर , या गुंडा था | लेकिन रामदेव बाबा के मामले में तो एसा नहीं है , उनका पूरा जीवन पारदर्शी रहा है | कोई सच्चा आदमी ही इतनो का या पूरा हिन्दुस्तान का दिल को जित सकता है |

    जब राम भगवान् भी राजनीति में उतरे थे , तो इस देश के संत कु नहीं ?

    कुछ मिडिया वाले बाबा के खिलाप इसी लिए हो गए हैं की , ताकि उन्हें भी किसी पार्टी के तरफ से कुछ donation मिल जाये , या कमाने का कोई जरिया मिल जाये |

    भारत स्वाभिमान के जी मुद्दे हैं जो लक्ष्य हैं वो किसी औप पार्टी में केवल जय प्रकाश आन्दोलन को छोड़ कर , आज तक किसी ने कु कच नहीं बोला /

    मैं हंसुली गाँव में रहता हूँ , यहाँ के पुरे ग्राम वासी और पुरे संत , पंडित , बाबा जी के साथ है| हम पुरे गाँव एक ही सपना देखते हैं की कब हमारा गाँव एक विकसित गाँव बनेगा ? कब कोई अछे लोग हारे नेता बनेगे ?

    विकास कुमार

  • Ali Akbar says:

    ९९% संत समाज और सरे देशभक्त भारतवासी भ्रस्ताचार के खिलाफ आन्दोलन में बाबा राम्देव के साथ है

    कांग्रेस ने अपने ५० साल के सासन काल में लाखो बार गरीबी हटाओ का नारा लगाया परन्तु हाल यह है की आज हर दिन ५०००-७००० बच्चे भूके पथ मरे जाते है , २ लाख किसान आत्महत्या करते है और हर सरकारी दफ्तर में पैसे के बिना कम नहीं चलता

    भारतीय मीडिया कांग्रेस के हाथो बिक चुके है

    वन्दे मातरम

    • kuvar paratp says:

      भाई साहब मीडिया क्यों बिकेगी …. कांग्रेस भ्रष्टाचार की पर्याय बन चुकी है …. वो अपने आपको बचाए नहीं तो वो दिन दूर नहीं है जबकि यहां पर भी लीबिया और मिस्र जैसे हालात हो जाएंगे।

  • mukesh pathak says:

    किसी के भी अतीत में जाएँ तो आप कुछ न कुछ गलत पा सकते हैं. लेकिन अगर वो इस समय कुछ अच्छा कार्य कर रहा है तो अब उसकी मदद करनी ही चाहिए. आज जो मुद्दे बाबा रामदेव जी उठा रहे हैं उस पर किसी भी संत का ध्यान नहीं गया है इसलिए अब उनकी अगर कोई गलती है भी तो उसे माफ़ कर उनका साथ दीजिये या उन जैसा कार्य करिए.

  • Namit says:

    प्रायोजित कार्यक्रम है ये.

    मै इसकी निंदा करता हूँ…

Leave a Reply

कृपया आप अपनी टिप्पणी को सिर्फ 500 शब्दों में लिखें