मितावलीः 9वीं सदी की यह धरोहर संसद भवन जैसी दिखती है

दिल्ली के 100 साल पूरे हो गए. इस जश्न-ए-दिल्ली में सरकारी महकमों से लेकर कई ग़ैर-सरकारी संगठनों ने राजधानी में कई कार्यक्रम आयोजित किए और मशहूर ब्रिटिश वास्तुकार सर एडविन लुटियंस की शान में खूब क़सीदे भी पढ़े. दिल्ली को नई पहचान देने में उनकी अहम भूमिका को याद किया गया. उनके द्वारा बनाई गई इमारतों में अगर सबसे ज़्यादा किसी की चर्चा होती है तो वह संसद भवन है. लेकिन क्या यही आखिरी सच है, शायद नहीं. सच कुछ और भी है, जिसकी अनदेखी पिछले कई दशकों से हो रही है. मौजूदा संसद भवन और राष्ट्रपति भवन समेत राजधानी की कई बेहतरीन इमारतें सर लुटियंस और उनके सहयोगी हरबर्ट बेकर की देखरेख में बनाई गई थीं.

इतिहास के विद्यार्थी अब तक पढ़ते आए हैं कि नई दिल्ली स्थित संसद भवन ब्रिटिश वास्तुविद् सर एडविन लुटियंस की मौलिक परिकल्पना है. लेकिन मितावली में मौजूद चौंसठ योगिनी शिव मंदिर को देखने के बाद उनका यह भ्रम दूर हो जाएगा और इसे लेकर एक नई बहस की शुरुआत हो सकती है. इसमें कोई शक नहीं कि लुटियंस ने जिस संसद भवन को बनाया, उसकी प्रेरणा उन्हें मुरैना स्थित इस प्राचीन मंदिर से मिली होगी.

12 फरवरी, 1921 को मौजूदा संसद भवन की आधारशिला रखी गई थी. इसके निर्माण में छह साल लगे और तब इस पर 83 लाख रुपये की लागत आई थी. संसद भवन का उद्‌घाटन 18 जनवरी, 1927 को तत्कालीन गवर्नर जनरल लार्ड इर्विन ने किया था, लेकिन बहुत कम लोगों को यह पता है कि भारतीय संसद के भवन का डिज़ाइन मध्य प्रदेश के नवीं सदी के एक शिव मंदिर पर आधारित है. जब भी संसद भवन की बात होती है तो उसमें सर एडविन लुटियंस का ज़िक्र आता है, लेकिन संसद भवन बनाने की प्रेरणा लुटियंस ने जहां से ली, उसकी चर्चा न तो किताबों में है और न ही पार्लियामेंट की वेबसाइट पर. हमारी संजीदा सरकार को यह हक़ीक़त पता हो इसकी संभावना कम है. यहां तक कि दिल्ली गज़ट में भी संसद भवन के निर्माण और उसकी परिकल्पना का पूरा श्रेय लुटियंस को ही दिया गया है. हालांकि यह बात सही है कि जिस समय संसद भवन का निर्माण हुआ था, उस व़क्त भारत में अंग्रेजों का शासन था. ज़ाहिर है कि ब्रिटिश शासकों ने अपने अभिलेख में संसद भवन के डिज़ाइन को लुटियंस की मौलिक सोच क़रार दिया. अब जबकि देश को आज़ाद हुए 64 साल हो गए, ऐसे में क्या यह ज़रूरी नहीं है कि हमारी सरकार संसद भवन के निर्माण और सर एडविन लुटियंस की भूमिका की सच्चाई से देश के लोगों को वाक़िफ कराए. दिल्ली के 100 साल पूरे होने पर हमारी सरकार ने भले ही सर एडविन लुटियंस का महिमामंडन किया हो, लेकिन चौथी दुनिया आपको उस हक़ीक़त से रूबरू करा रही है, जिसे पिछले 100 वर्षों में न तो हमारे इतिहासकार सामने लाए और न ही हमारी सरकार. एक तऱफ देश के सर्वोच्च प्रतीक संसद की सुरक्षा और सुंदरता पर हर साल करोड़ों रुपये ख़र्च किए जाते हैं, लेकिन संसद भवन बनाने की प्रेरणा नवीं सदी में निर्मित जिस चौंसठ योगिनी शिव मंदिर मितावली से ली गई उसके प्रति हमारी सरकार तनिक भी गंभीर नहीं है. यही वजह है कि सैकड़ों साल पुराना यह ऐतिहासिक मंदिर अपनी पहचान की लड़ाई लड़ रहा है.

चौंसठ योगिनी मंदिर, मितावली

ग्राम पंचायत मितावली, थाना रिठौराकलां, ज़िला मुरैना(मध्य प्रदेश) में यह प्राचीन चौंसठ योगिनी शिव मंदिर है. इसे इकंतेश्वर महादेव मंदिर के नाम से भी जाना जाता है. इस मंदिर की ऊंचाई भूमि तल से 300 फीट है. इसका निर्माण तत्कालीन प्रतिहार क्षत्रिय राजाओं ने किया था. यह मंदिर गोलाकार है. इसी गोलाई में बने चौंसठ कमरों में हर एक में एक शिवलिंग स्थापित है. इसके मुख्य परिसर में एक विशाल शिव मंदिर है. भारतीय पुरातत्व विभाग के मुताबिक़, इस मंदिर को नवीं सदी में बनवाया गया था. कभी हर कमरे में भगवान शिव के साथ देवी योगिनी की मूर्तियां भी थीं, इसलिए इसे चौंसठ योगिनी शिवमंदिर भी कहा जाता है. देवी की कुछ मूर्तियां चोरी हो चुकी हैं. कुछ मूर्तियां देश के विभिन्न संग्रहालयों में भेजी गई हैं. तक़रीबन 200 सीढ़ियां चढ़ने के बाद यहां पहुंचा जा सकता है. यह सौ से ज़्यादा पत्थर के खंभों पर टिका है. किसी ज़माने में इस मंदिर में तांत्रिक अनुष्ठान किया जाता था. मौजूदा समय में भी यहां कुछ लोग तांत्रिक सिद्धियां हासिल करने के लिए यज्ञ करते हैं.

संसद भवन एक नज़र

निर्माण वर्ष  : 1921-1927 के बीच

स्थान : नई दिल्ली

निर्माता : ब्रिटिश वास्तुविद सर एडविन लुटियंस और हरबर्ट बेकर

ख़ासियत : यह विश्व के किसी भी देश में विद्यमान वास्तुकला का एक बेहतरीन नमूना है

आकार : गोलाकार, व्यास 560 फुट, जिसका घेरा 533 मीटर है. यह लगभग छह एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है. भवन के 12 दरवाज़े हैं. हल्के पीले रंग के 144 खंभे कतार से लगे हैं. प्रत्येक की ऊंचाई 27 फीट है.

यह मंदिर संसद भवन जैसा ही लगता है. मंदिर का निर्माण लाल-भूरे वलूना पत्थरों से किया गया है, जो मितावली क्षेत्र में पाए जाते हैं. फिलहाल भारतीय संसद का यह बेजोड़ नमूना पूरी तरह बदहाली का शिकार है. मितावली गांव की ऊंची पहाड़ी पर स्थित यह मंदिर पूर्व में हुए अवैध खनन के चलते जीर्ण-शीर्ण हो चुका है. मितावली मंदिर के आसपास हुए खनन में वे लोग शामिल थे, जिन्हें राजनीतिक संरक्षण प्राप्त था. मुरैना के पूर्व ज़िला कलेक्टर रहे आरएस जिलानिया की गंभीर पहल की वजह से अवैध खनन पर रोक लगी, लेकिन ऐसी भी ख़बरें हैं कि इसके नज़दीकी इलाक़ों में खनन माफिया अभी भी सक्रिय है, जबकि पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित स्मारकों से 300 मीटर के दायरे में खनन प्रतिबंधित है. मितावली की चौंसठ योगिनी मंदिर अपनी पहचान से अनजान है. मितावली के स्थानीय लोगों के अनुसार आठवीं सदी के इस प्राचीन मंदिर को कभी तांत्रिक क्रिया के विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त था. ऐसी मान्यता है कि इसी मंदिर की तर्ज़ पर संसद भवन का निर्माण किया गया था. भारत के प्राचीन धरोहरों में एक मितावली मंदिर की उपेक्षा पर ग्रामीणों ने चिंता ज़ाहिर करते हुए कहा कि सरकार को चाहिए कि वह मितावली मंदिर भारतीय पर्यटन मानचित्र पर लाने का प्रयास करे, ताकि यहां देशी-विदेशी सैलानी बड़ी संख्या में आ सकें. पर्याप्त प्रचार-प्रसार के अभाव में यहां विदेशी पर्यटक न के बराबर ही आ पाते हैं. इसकी अहम वजह यहां बिजली, पानी और सड़क जैसी बुनियादी समस्याओं के अलावा सुरक्षा का नितांत अभाव होना है. उनके मुताबिक़ पर्यटकों को यहां बुनियादी सुविधाएं मुहैया हों तो सालभर यहां पर्यटकों की आवाजाही होगी. वहीं दूसरी तऱफ ग्राम विकास प्रस्फुटन समिति, ग्राम मितावली के सदस्यों का कहना है कि यह प्राचीन मंदिर उपेक्षा और घोर लापरवाही के चलते ख़तरे में आ गया है. उनके मुताबिक़ इस मंदिर में मौजूद कई बेशक़ीमती मूर्तियां ग्वालियर क़िले के संग्रहालय में रखी गई हैं. उनका कहना है कि मध्य प्रदेश शासन और केंद्र सरकार अगर मितावली और उसके आसपास के इलाक़ों को विकसित करें तो इस क्षेत्र की तस्वीर बदल सकती है, क्योंकि मुरैना ज़िले में इसके अलावा कई और ऐसी प्राचीन धरोहरें हैं, जिन्हें विकसित किया जाना बेहद ज़रूरी है.

चौंसठ योगिनी मंदिर एक नज़र

निर्माण काल : नवीं सदी

स्थान : मितावली, मुरैना (मध्य प्रदेश)

निर्माता : प्रतिहार क्षत्रिय राजा

ख़ासियत : प्राचीन समय में यहां तांत्रिक अनुष्ठान होते थे

आकार : गोलाकार, 101 खंभे कतारबद्ध हैं. यहां 64 कमरे हैं, जहां शिवलिंग स्थापित है.

ऊंचाई : भूमि तल से 300 फीट

पर्यटकों की शिकायत

मितावली मंदिर में रखी विजिटर्स डायरी में पर्यटकों ने लिखा है- यूं तो मितावली मंदिर देखने में बहुत ही खूबसूरत है, लेकिन यहां कोई शिलालेख व बोर्ड न होने से यहां की वास्तुकला व इतिहास की स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाती. ग़ौरतलब है कि मितावली मंदिर मुरैना ज़िला मुख्यालय से 35 किलोमीटर की दूरी पर है. यहां पहुंचने के लिए बहुत ही साधारण सड़क है, जिस वजह से यहां आने वाले पर्यटकों को का़फी द़िक्क़तों का सामना करना पड़ता है. इतना ही नहीं मितावली मंदिर के नज़दीक पर्यटकों के ठहरने के लिए न तो कोई होटल है और न ही खाने-पीने के लिए कोई रेस्तरां. यहां आने वाले पर्यटकों की शिकायत है कि मितावली मंदिर में पीने के लिए पानी भी नहीं है. इतना ही नहीं यहां ज़हरीले सांपों और बिच्छुओं का प्रकोप भी ज़्यादा है, जिस वजह से पर्यटकों के मन में अपनी सुरक्षा को लेकर सदैव चिंता बनी रहती है.

शोध हो तो खुल सकते हैं कई रहस्य

इतिहास के विद्यार्थी अब तक पढ़ते आए हैं कि नई दिल्ली स्थित संसद भवन ब्रिटिश वास्तुविद् सर एडविन लुटियंस की मौलिक परिकल्पना है. लेकिन मितावली में मौजूद चौंसठ योगिनी शिव मंदिर को देखने के बाद उनका यह भ्रम दूर हो जाएगा और इसे लेकर एक नई बहस की शुरुआत हो सकती है. इसमें कोई शक नहीं कि लुटियंस ने जिस संसद भवन को बनाया, उसकी प्रेरणा उन्हें मुरैना स्थित इस प्राचीन मंदिर से मिली होगी. अ़फसोस की बात यह है कि इस बात का ज़िक्र न तो हमारी इतिहास की किताबों में दर्ज है और न ही हमारे आधुनिक इतिहासकार इसे पूरी तरह स्वीकार करते हैं. मितावली मंदिर और उसके नज़दीक प्राचीन इमारतों पर अगर शोध कार्य किए जाएं तो परत-दर परत कई अहम जानकारियां प्राप्त होंगी और संसद भवन के निर्माण को लेकर वर्षों से बरक़रार कई ग़लत़फहमियां दूर होंगी. इतिहास में रुचि रखने वालों को चाहिए कि वे इस बारे में रिसर्च करें, ताकि भारतीय संसद जैसे दिखने वाले इस मंदिर के बारे में देश और दुनिया के लोगों को नई एवं सटीक जानकारी मिल सके. ग़ौरतलब है कि भारत में कई ऐसी इमारतें और स्मारक हैं, जिनके निर्माण और शैली को लेकर कई भ्रांतियां फैलाई गई हैं.

अभिषेक रंजन सिंह

भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) नई दिल्ली से पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की. जर्नलिज्म में करियर की शुरूआत इन्होंने सकाल मीडिया समूह से किया. उसके बाद लगभग एक साल एक कारोबारी पत्रिका में बतौर संवाददाता रहे. वर्ष 2009 में दिल्ली से प्रकाशित एक दैनिक अखबार में काम करने के बाद यूएनआई टीवी में असिसटेंट प्रोड्यूसर के पद पर रहे. इसके अलावा ऑल इंडिया रेडियो मे भी कुछ दिनों वार्ताकार रहे। आप हिंदी में कविताएं लिखने के अलावा गजलों के शौकीन हैं. इन दिनों चौथी दुनिया साप्ताहिक अखबार में वरिष्ठ संवाददाता है।
loading...

अभिषेक रंजन सिंह

भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) नई दिल्ली से पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की. जर्नलिज्म में करियर की शुरूआत इन्होंने सकाल मीडिया समूह से किया. उसके बाद लगभग एक साल एक कारोबारी पत्रिका में बतौर संवाददाता रहे. वर्ष 2009 में दिल्ली से प्रकाशित एक दैनिक अखबार में काम करने के बाद यूएनआई टीवी में असिसटेंट प्रोड्यूसर के पद पर रहे. इसके अलावा ऑल इंडिया रेडियो मे भी कुछ दिनों वार्ताकार रहे। आप हिंदी में कविताएं लिखने के अलावा गजलों के शौकीन हैं. इन दिनों चौथी दुनिया साप्ताहिक अखबार में वरिष्ठ संवाददाता है।

  • Manoj

    बहुत आचहा न्यूज़