अब सुधरेंगे हालात

ओलंपिक क्वालीफायर से पहले विश्व सीरीज़ हॉकी के आयोजन को लेकर आलोचना झेल रहे निम्बस स्पोट्‌र्स और भारतीय हॉकी महासंघ ने 2012 लंदन ओलंपिक के लिए स्ट्राइव फोर गोल्ड मुहिम की घोषणा की है, जिसके तहत ओलंपिक पदक जीतने पर भारतीय टीम में शामिल सीरीज के खिलाड़ियों को दो करोड़ रुपये नक़द पुरस्कार दिया जाएगा. भारतीय टीम को 15 से 26 फरवरी तक दिल्ली में ओलंपिक क्वालीफायर खेलने हैं, जबकि विश्व सीरीज हॉकी 17 दिसंबर से 22 जनवरी तक खेली जानी है. आयोजकों ने घोषणा की है कि ओलंपिक क्वालीफायर के लिए भारतीय टीम में जगह बनाने वाले सीरीज के  सभी खिलाड़ियों को पांच-पांच लाख रुपये दिए जाएंगे. इसके अलावा यदि टीम ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर लेती है तो इन खिलाड़ियों को पांच लाख रुपये अतिरिक्त दिए जाएंगे. भारतीय टीम यदि लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतती है तो उसमें शामिल सीरीज के खिलाड़ियों में दो करोड़ रुपये के पुरस्कार को बराबर बांटा जाएगा. रजत पदक जीतने पर एक करोड़ और कांस्य जीतने पर 50 लाख रुपये दिए जाएंगे.

निम्बस स्पोट्‌र्स के सीओओ यानिक कोलासो ने कहा कि हमारा लक्ष्य हॉकी खिलाड़ियों की स्थिति में सुधार करके उच्चतम स्तर पर बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रेरित करना है. इसी वजह से हमने स्ट्राइव फोर गोल्ड कार्यक्रम की घोषणा की है. भारतीय हॉकी महासंघ के अध्यक्ष आरके शेट्टी ने कहा कि लीग के ज़रिये भारतीय खिलाड़ी ओलंपिक जैसे आयोजनों के लिए बेहतर तैयारी कर सकेंगे. उन्होंने कहा कि ओलंपिक खेलों में सफलता राष्ट्रीय गौरव का विषय है. विश्व सीरीज हॉकी के ज़रिये खिलाड़ी इसकी बेहतर तैयारी कर सकेंगे. इससे पहले हॉकी इंडिया ने अपने सभी खिलाड़ियों को सीरीज से दूर रहने के  लिए कहा है. भारतीय हॉकी टीम के मुख्य कोच माइकल नोब्स पहले ही कह चुके हैं कि ओलंपिक क्वालीफायर की तैयारी के लिए शिविर को छोड़कर लीग में भाग लेने वाले खिलाड़ियों के लिए उनकी टीम में कोई जगह नहीं होगी.

loading...