थैंक्स का पॉजिटिव इफेक्ट

लोगों द्वारा बार-बार थैंक्स कहने से अगर आप बोर हो जाते हैं तो अब ख़ुद भी थैंक्स बोलना शुरू कर दीजिए, क्योंकि मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि शुक्रिया कहना सेहत के लिए अच्छा है. पिछले कई सालों से हो रहे शोध में उन्हें पता चल रहा है कि शुक्रिया कहना मानवता की सबसे तगड़ी भावना है. यह आपको ख़ुश करती है और जीवन के  प्रति आपका रवैया बदल सकती है, खासकर आजकल जैसे कठोर समय में. मायामी विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग के प्रोफेसर माइकल मैक्कलफ का कहना है कि यह एक असाधारण भावना होती है, यह लोगों को आपसे जोड़ती है. इसीलिए ज़रूरी है कि यदि आप किसी का शुक्रिया अदा करें तो तहेदिल से करें, न कि खानापूर्ति के लिए. शिकागो की मनोवैज्ञानिक एवं लेखिका मरियम त्रोइयानी कहती हैं कि कृतज्ञता आपका रवैया और ज़िंदगी के प्रति नज़रिया बदल देती है. कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के  मनोविज्ञान विभाग के प्रोफेसर रॉबर्ट एमंस कहते हैं कि कृतज्ञ लोग अधिक चुस्त, जीवंत, दिलचस्पी लेने वाले और जोशीले होते हैं. कृतज्ञ लोगों को ईर्ष्या, क्रोध, आक्रोश, रोष और दूसरी तनाव पैदा करने वाली अप्रिय भावनाओं का कम अनुभव होता है.

loading...