जाते-जाते डोपिंग

राष्ट्रीय डोपिंग निरोधी संस्था (नाडा) ने प्रतिबंधित दवाओं के सेवन की दोषी पाए जाने पर एशियाई खेलों में दो स्वर्ण पदक जीतने वाली अश्विनी अकुंजी सहित छह एथलीटों पर एक वर्ष का प्रतिबंध लगाने की घोषणा की. नाडा के इस फैसले के बाद अकुंजी और बाक़ी एथलीटों का लंदन ओलंपिक में हिस्सा लेने का सपना धरा रह गया. अकुंजी के अलावा मनदीप कौर, सिनी जोंस, मैरी तियाना थॉमस, प्रियंका पवार और जुआन मुर्मू पर प्रतिबंध लगाया गया. नाडा की अनुशासनात्मक समिति के प्रमुख दिनेश दयाल ने कहा कि इन खिलाड़ियों ने किसी अंतरराष्ट्रीय आयोजन के दौरान प्रतिबंधित दवाइयों का सेवन नहीं किया था, लिहाज़ा इनके ख़िला़फ थोड़ा नरम रवैया दिखाया गया है. इस तरह की ग़लती साबित होने पर कम से कम दो वर्ष का प्रतिबंध लगाया जाता है. नाडा के महानिदेशक राहुल भटनागर ने कहा कि ये एथलीट अपीलीय समिति के सामने इस सज़ा के ख़िला़फ अपील कर सकती हैं, लेकिन इन खिलाड़ियों के वकीलों का कहना है कि कोई भी अपील करने से पहले वे सज़ा से संबंधित नाडा के फैसले की प्रति पर ग़ौर करना चाहेंगे.

loading...