लॉबिंग हरगिज़ नहीं : आनंद

हॉकी के जादूगर मेजर ध्यान चंद और क्रिकेट के बादशाह सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न दिए जाने की देशव्यापी बहस के बीच चार बार के शतरंज विश्व चैंपियन विश्वनाथन आनंद ने कहा कि वह इस प्रतिष्ठित सम्मान के लिए कोई लॉबिंग नहीं करेंगे. आनंद ने केंद्र सरकार द्वारा खिलाड़ियों को भी भारत रत्न दिए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा, यदि यह सम्मान मुझे मिलेगा तो मैं गर्व महसूस करूंगा, लेकिन मैं इसके लिए कोई लॉबिंग नहीं करूंगा. विश्व चैंपियन ने अपने प्रायोजक एनआईआईटी के कार्यक्रम में इस सम्मान के लिए किसी खिलाड़ी के नाम का सुझाव देने से भी इंकार कर दिया. उन्होंने कहा कि इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय का पैनल बेहतर जानता है. मालूम हो कि भारत रत्न के लिए ध्यान चंद और सचिन का नाम सबसे आगे है, जबकि भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ (एनआरएआई) ने निशानेबाज़ अभिनव बिंद्रा के नाम की सिफारिश की है. कुश्ती जगत से गुरु हनुमान का नाम इस पुरस्कार के लिए उठा है. आगामी मई में मास्को में विश्व चैंपियनशिप के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी इजरायल के बोरिस गेलफांद के लिए आनंद ने कहा, उन्हें हराना काफी मुश्किल काम है. हम दोनों एक-दूसरे के खेल को अच्छी तरह जानते हैं, लेकिन यह एक मुश्किल मुक़ाबला होगा. हालांकि विशेषज्ञ कह रहे हैं कि मैं दावेदार हूं, लेकिन मैं इन बातों पर ज़्यादा ध्यान नहीं देता.

loading...