ओलंपिक की तैयारी

लंदन ओलंपिक खेल शुरू होने में अभी क़रीब सात महीने का समय है, लेकिन भारत का कोई भी पहलवान अभी तक ओलंपिक का टिकट नहीं पा सका है. बावजूद इसके ओलंपियन सुशील कुमार के गुरु एवं द्रोणाचार्य अवॉर्डी महाबली सतपाल का मानना है कि भारतीय पहलवान आने वाले साल में न स़िर्फ टिकट हासिल करेंगे, बल्कि लंदन ओलंपिक में गोल्ड मेडल भी जीतेंगे. ओलंपिक खेल इस साल 27 जुलाई से लंदन में होने हैं और भारतीय पहलवान क्वॉलिफाइंग प्रतियोगिताओं की तैयारी में जुटे हुए हैं. पिछले साल सितंबर में इस्तांबुल में हुई क्वॉलिफाइंग प्रतियोगिता में भारत की ओर से 19 पहलवान गए, जिनमें पेइचिंग ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता सुशील कुमार भी शामिल थे, लेकिन कोई भी पहलवान ओलंपिक का टिकट नहीं पा सका था. इन दिनों नेशनल स्कूल गेम्स के आयोजन में जुटे सतपाल कहते हैं कि सुशील के ओलंपिक कांस्य पदक जीतने के बाद देश की कुश्ती का स्तर बढ़ा है. यह ज़रूर है कि अभी हमारा कोई भी पहलवान ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई नहीं कर सका है, लेकिन धैर्य रखने की ज़रूरत है. आने वाले महीनों में हमारे पहलवानों के पास क्वॉलिफाइंग के मौक़े आएंगे, जिनमें कई पहलवान टिकट पाने में सफल रहेंगे. कजाकिस्तान में आगामी 28 मार्च से ओलंपिक क्वॉलिफाइंग प्रतियोगिता होगी, जो भारतीय पहलवानों को ओलंपिक का टिकट ज़रूर दिलाएगी. इस प्रतियोगिता में स़िर्फ एशिया के पहलवान भाग लेते हैं. इसके बाद अप्रैल में चीन और मई में हेल्सिंकी में ओलंपिक क्वॉलिफाइंग प्रतियोगिताएं होंगी. ग़ौरतलब है कि पेइचिंग ओलंपिक 2008 में भारत के लिए सुशील कुमार ने 56 सालों बाद पदक जीता था. सतपाल ने कहा कि सुशील पूरी मेहनत कर रहा है. मुझे उससे काफी उम्मीदें हैं. वह अपनी तैयारी में जुटा हुआ है. यदि क़िस्मत ने साथ दिया तो वह लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतेगा.

loading...