सौ समस्याओं का एक समाधान : आरटीआई आवेदन

रिश्वत देना जहां एक ओर आम आदमी की मजबूरी बन गया है, वहीं कुछ लोगों के लिए यह अपना काम जल्दी और ग़लत तरीक़े से निकलवाने का ज़रिया भी बन गया है, लेकिन इन दोनों स्थितियों में एक फर्क़ है. एक ओर 2-जी स्पेक्ट्रम के लिए रिश्वत दी जाती है, तो दूसरी ओर एक आम और बेबस आदमी को राशन कार्ड बनवाने, सरकारी पेंशन, दवा एवं इंदिरा आवास पाने के लिए रिश्वत देनी पड़ती है. वैसे रिश्वत किसी भी काम के लिए या किसी भी रूप में देना न स़िर्फ ग़ैर क़ानूनी है, बल्कि अनैतिक भी है. बावजूद इसके व्यवस्था में भ्रष्टाचार की जड़ें इतनी गहरी हो चुकी हैं कि इस बीमारी से निजात पाना मुश्किल नज़र आता है. आप चाहे शहर में रहते हों या गांव में, सरकारी बाबुओं द्वारा फाइल दबाने और फाइल आगे बढ़ाने के लिए रिश्वत की मांग से आप सभी का सामना ज़रूर हुआ होगा. गांवों में वृद्धावस्था पेंशन के लिए बुज़ुर्गों को कितनी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, इसका अंदाज़ा लगाना भी मुश्किल है. शहरों में भी लोगों को आयु, जन्म-मृत्यु एवं आवास प्रमाणपत्र बनवाने या इंकम टैक्स रिफंड लेने के लिए नाको चने चबाने पड़ते हैं, साथ ही रिश्वत भी देनी पड़ती है. अब सवाल यह है कि जो आदमी रिश्वत देने की स्थिति में नहीं है तो क्या उसका काम नहीं होगा? ऐसा नहीं है, काम ज़रूर होगा, वह भी बिना रिश्वत दिए. ज़रूरत है, स़िर्फ अपने अधिकार का इस्तेमाल करने की और वह अधिकार है, सूचना का अधिकार. यह अधिकार एक क़ानून है. महज़ एक आवेदन देकर आप रिश्वत़खोर अधिकारियों की नींद हराम कर सकते हैं. जैसे ही आप अपने रुके हुए काम से संबंधित एक आरटीआई आवेदन डालते हैं, भ्रष्ट एवं रिश्वत़खोर अधिकारियों और बाबुओं की समझ में आ जाता है कि वे जिसे परेशान कर रहे हैं, वह आम आदमी तो है, लेकिन अपने अधिकारों और नियमों के प्रति जागरूक है. सरकारी विभागों में भी आम तौर पर उन्हीं लोगों को ज़्यादा परेशान किया जाता है, जिन्हें अपने अधिकारों की जानकारी नहीं होती. सूचना अधिकार क़ानून में इतनी ताक़त है कि छोटे-मोटे काम तो आवेदन देने के साथ ही हो जाते हैं. इसलिए यह ज़रूरी है कि आप अपने अधिकार का इस्तेमाल करें, बजाय घूस देकर काम कराने के. चौथी दुनिया आपके हर क़दम पर आपका साथ देने को तैयार है. कोई समस्या हो, कोई सुझाव चाहिए या आप अपने अनुभव हमसे बांटना चाहें तो हमें पत्र लिखें या ई-मेल करें. हम आपकी मदद के लिए हमेशा तैयार हैं.

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *