टूरिज्म में बनाए करियर

 

tourism-and-travel-managementट्रैवल प्रफेशनल्स की डिमांड दुनिया में तेजी से बढ़ रही है. भारत भी इससे अछूता नहीं है. टूरिज्म जैसे क्षेत्रों के उभरने से भी भारत को सैलानियों को आकर्षित करने में मदद मिल रही है. यही नहीं, अब तो इंडियन भी खूब सैर-सपाटा कर रहे हैं. ऐसे में टूरिज्म इंडस्ट्री में रोजगार के अवसर भी नित्य नए क्रिएट हो रहें है. इस इंडस्ट्री में अच्छा करने के लिए दमदार कम्युनिकेशन स्किल्स का होना बेहद जरूरी है. साथ ही, देश-दुनिया की जानकारी भी ब्राइट फ्यूचर के लिए जरूरी है. इन चीजों के अल्वा जिनकी जरूरत पड़ती है, वे हैं कस्टम सर्विस स्किल्स, प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल्स और डिसिजन मेकिंग स्किल्स वगैरह.

इस इंडस्ट्री में इतने प्रकार के काम हैं, कि व्यक्ति कहीं न कहीं खप ही जाता है.  लेकिन बढ़िया पैसा कमाने के लिए बढ़िया डिग्री भी जरूरी होती है.  टूरिज्म प्रफेशनल्स की बढ़ती डिमांड के कारण ही आज देश के तमाम जानेमाने इंस्टीट्यूट्स में टूर एंड ट्रैवल मैनेजमेंट या एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर डिग्री या इस सब्जेक्ट में डिप्लामा के कोर्स उपलब्ध हैं.  इस फील्ड में जो कोर्सेज प्रचलन में हैं, उनकी अवधि एक साल से लेकर दो साल तक की है. कुछ कोर्स एक साल से कम अवधि के भी हैं. मास्टर कोर्स दो साल का होता है. बाकी डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स वगैरह एक साल या इससे कम अवधि के होते हैं.

टूरिज्म से रिलेटेड कोर्स 12वीं के बाद से ही उपलब्ध हैं. मास्टर्स के लिए आपका ग्रैजुएट होना जरूरी हाता है. देश के कई चुनिंदा मैनेजमेंट स्कूल्स में भी टूरिज्म की पढ़ाई हैं, लेकिन वहां एडमिशन पाने के लिए आपको कैट-मैट के साथ साथ ग्रुप डिस्कशन और इंटरव्यू भी फेश करना पड़ता है.कहां से करे पढ़ाई- इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टूरिज्म एंड ट्रैवल मैनेजमेंट, नई दिल्ली, दिल्ली यूनिवर्सिटी , गढ़वाल यूनिवर्सिटी डिपार्टमेंट ऑफ टूरिज्म, श्रीनगर, उत्तराखंड , बीएचयू वाराणसी , इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टूरिज्म एंड ट्रैवल मैनेजमेंट, ग्वालियर, केरल इंस्टीट्यूट ऑफ टूरिज्म एंड ट्रैवल स्टडीज, हिमाचल यूनिवर्सिटी शिमला, भारतीय विद्या भवन, नई दिल्ली यह कुछ यूनिवर्सिटी है जहां टूरिज्म क्रोस की पढ़ाई की जा सकती है.

loading...