पैसा और पावर का खेल है चुनाव

bihar-electionबिहार विधानसभा चुनाव आगामी अक्टूबर-नवंबर में होने वाले हैं. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) ने बिहार विधानसभा-2010 के आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों एवं विधायकों की एक रिपोर्ट जारी की थी. इसमें आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है. आइए एक नज़र डालते हैं, एडीआर के आंकड़ों पर…

बिहार इलेक्शन वाच के अनुसार, 2010 के विधानसभा चुनाव में 3,523 उम्मीदवारों में से 2,235 ने हलफनामा दिया था, जिनमें से 797 (36 प्रतिशत) उम्मीदवारों के ़िखला़फ आपराधिक मामले दर्ज हैं. एडीआर ने अपनी रिपोर्ट में उन पार्टियों का भी जिक्र किया है, जिनके उम्मीदवारों के ़िखला़फ आपराधिक मामले न्यायालय में विचाराधीन है. मसलन, भाजपा के 102 उम्मीदवारों में से 66 (55 प्रतिशत), लोक जनशक्ति पार्टी के 75 में से 42 (56 प्रतिशत), कांग्रेस के 240 में से 92 (38 प्रतिशत), बसपा के 232 में से 89 (38 प्रतिशत) और एनसीपी के 106 में से 30 (28 प्रतिशत) उम्मीदवार ऐसे थे, जिन पर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार, इनमें से 497 उम्मीदवार ऐसे थे, जिन पर हत्या, अपहरण, डकैती, जबरन वसूली जैसे गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. इनमें बसपा के 58, जदयू के 53, कांग्रेस के 46, राजद के 46, भाजपा के 29 और लोजपा के 23 उम्मीदवार शामिल हैं.एडीआर की रिपोर्ट यह भी कहती है कि हलफनामा देने वाले 2,235 उम्मीदवारों में से 227 (10 प्रतिशत) उम्मीदवार ऐसे थे, जिनके पास करोड़ों की संपत्ति है और 12 उम्मीदवार ऐसे थे, जिनके पास कोई संपत्ति नहीं है. इनमें से 263 उम्मीदवार ऐसे थे, जिन्होंने हलफनामे में अपनी संपत्ति का मूल्य पांच लाख रुपये से अधिक बताया.

रिपोर्ट में राज्य की विभिन्न पार्टियों के उम्मीदवारों की औसतन कुल संपत्ति का भी जिक्र किया गया है, जिसके अनुसार, राजद के उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति एक करोड़ रुपये रही, जबकि कांग्रेस के उम्मीदवारों की 94 लाख, जदयू के उम्मीदवारों की 85 लाख, लोेजपा के उम्मीदवारों की 80 लाख और भाजपा के उम्मीदवारों की 66 लाख रुपये. 2,235 में से 1,440 (64 प्रतिशत) ने अपने पैनकार्ड का ब्यौरा नहीं दिया. 308 महिला उम्मीदवारों ने भी अपने पैनकार्ड का ब्यौरा नहीं दिया. एडीआर की रिपोर्ट में इन उम्मीदवारों की शैक्षिक योग्यता का भी जिक्र किया गया है. 2,235 उम्मीदवारों में से 1,001 (45 प्रतिशत) की शैक्षिक योग्यता स्नातक या उससे ज़्यादा है.

loading...