13 साल बाद पाक में गरजी थीं भारतीय तोपें

top-artilary29 अक्टूबर को, ठीक दिवाली से एक दिन पूर्व भारतीय सेना ने केरन सेक्टर में गुपचुप तरीके से तोपों (आर्टिलरी गन्स)को सीमा पर भेज दिया था. पाकिस्तान के आर्मी कैम्पों पर एक बड़े हमले की तैयारी थी. भारतीय आर्मी के जाबांज सैनिकों ने सधे कदमों से एलओसी पार किया. पाकिस्तान में एक अरसे बाद भारतीय सेना की तोपें गरजीं और चार आर्मी कैम्पों को उड़ा दिया गया. इस हमले में पाकिस्तान के 40 जवान मारे गए थे. भारतीय सेना ने स्वीकार किया कि 13 साल में पहली बार एलओसी के पार तोपों का इस्तेमाल किया गया है. 2003 में भारत-पाक शांति समझौते के बाद पहली बार आर्मी कैम्पों को नेस्तनाबूद करने के लिए तोपों का इस्तेमाल किया गया है. इससे एक दिन पूर्व 28 अक्टूबर को कुपवाड़ा के माछिल सेक्टर में आतंकियों से मुठभेड़ में इंडियन आर्मी के जवान मनदीप सिंह शहीद हो गए थे. आतंकियों ने भारतीय जवान का सर काट लिया था. इस दौरान पाकिस्तान आर्मी लगातार आतंकियों की मदद करने के लिए कवर फायर कर रही थी.

सीमा पर बढ़ी हलचल, इंडियन और पाकिस्तान आर्मी आमने-सामने

सीमा पर तनाव बरकरार रखने के लिए पाकिस्तान इन दिनों एक नई चाल चल रहा है. जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा के नजदीक रेंजर्स को हटाकर पाकिस्तान आर्मी के जवानों की तैनाती की जा रही है. सीमा पर अचानक गतिविधियां तेज हो गई हैं. नियमित तौर पर कई गाड़ियां पाक सेना और भारी हथियारों को ला रही हैं. सीमा पर तनाव को देखते हुए भारतीय सेना भी अलर्ट है. अब हालात ये हैं कि सीमा पर भारतीय सेना और पाकिस्तान आर्मी आमने-सामने हो गए हैं.

सर्जिकल स्ट्राइक से बौखला गया है पाकिस्तान

28 और 29 सितंबर की रात को हुए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान बौखला गया है. हाल में पाकिस्तान ने 99 बार सीजफायर का उल्लंघन किया है. इस दौरान पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन करते हुए नागरिकों, महिलाओं व बच्चों को भी निशाना बनाता रहा है. सीमा के पास रह रहे भारत के नागरिकों पर 120 एमएम हैवी मोर्टार से गोले दागे जा रहे हैं. सेना के सूत्रों ने जानकारी दी कि पाकिस्तान ने जम्मू इलाके में एक महीने में 83 बार सीजफायर का उल्लंघन किया है, वहीं कश्मीर में पाक आर्मी ने 16 बार सीजफायर तोड़ा है. सेना इस बात का संदेह कर रही है कि पाकिस्तान आर्मी ही भारतीय नागरिकों पर हमले के लिए निर्देश दे रही है.

इन हमलों में अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें 12 सिविलियन हैं. 1 नवंबर को क्रॉस बॉर्डर फायरिंग में सबसे ज्यादा नुकसान हुआ था. इस दिन फायरिंग में 8 लोगों की मौत हुई थी, जिसमें 4 महिलाएं और 2 बच्चे भी शामिल हैं. इसके बाद जवाबी कार्रवाई कर इंडियन आर्मी ने भी पाकिस्तान की 14 चौकियां तबाह कर दी थीं. गौरतलब है कि उड़ी हमले के बाद इंडियन आर्मी ने सर्जिकल स्ट्राइक कर आतंकियों के 7 कैम्पों को ध्वस्त कर दिया था. इस दौरान करीब 39 टेररिस्ट्स को भी मार गिराया गया था.

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *