जल्द होगी माल्या की देश वापसी!

vijay-mallyaसीबीआई ने ब्रिटेन से विजय माल्या को देश वापस लाने की प्रक्रिया तेज कर दी है. जांच एजेंसी ने मुंबई की विशेष अदालत से माल्या के खिलाफ गैर जमानती वारंट हासिल कर लिए हैं. इसके बाद माल्या के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन के सक्षम अधिकारियों से अनुरोध किया गया है. गौरतलब है कि विजय माल्या, ललित मोदी समेत 60 आरोपियों के प्रत्यर्पण का मुद्दा हाल में भारत ने ब्रिटेन के सामने उठाया था. उम्मीद है कि इन आरोपियों को जल्द ही भारत प्रत्यर्पित किया जा सकता है. हाल में पीएम मोदी और ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे के बीच द्विपक्षीय वार्ता में प्रत्यर्पण मामले पर सहमति बनी थी. इस संबंध में दोनों देशों के अधिकारी प्रत्यर्पण मामलों में तेजी लाने के लिए एक-दूसरे के संपर्क में रहेंगे. इससे पूर्व सीबीआई ने अक्टूबर 2015 में माल्या के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी करने की अपील की थी. इसके तहत यदि वे देश छोड़ने का प्रयास करते, तो उन्हें निकासी स्थल पर ही हिरासत में लिया जा सकता था.

एजेंसी के लोगों ने बताया कि लुकआउट सर्कुलर इसे जारी करने वाले प्राधिकार पर निर्भर करता है. जब तक वे किसी व्यक्ति को विमान में सवार होने से रोकने या हिरासत में लेने के लिए नहीं कहते हैं, तब तक ऐसे मामलों में कार्रवाई नहीं की जाती है. इसके एक माह बाद नवंबर में एजेंसी ने एक संशोधित सर्कुलर जारी किया था. इसमें आव्रजन अधिकारियों से कहा गया था कि वे केवल माल्या के रवानगी और यात्रा संबंधी जानकारी ही दें. सूत्रों ने बताया कि संशोधित सर्कुलर जारी होने के बाद आव्रजन अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की और जांच एजेंसी को सिर्फ  उनके यात्रा संबंधी जानकारी ही मिलती रही. गौरतलब है कि माल्या पर विभिन्न बैंकों का 9000 करोड़ रुपए बकाया है. आईडीबीआई से 900 करोड़ रुपए के ॠण का भुगतान नहीं करने के मामले में माल्या के खिलाफ सीबीआई जांच कर रही है. इस मामले में सीबीआई ने किंगफिशर एयरलाइंस के प्रमुख अधिकारी ए रघुनाथन और आईडीबीआई बैंक के कुछ अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया था. बाद में 17 बैंकों के कंसोर्टियम द्वारा शिकायत मिलने पर एजेंसी ने जांच का दायरा बढ़ा दिया था. हालांकि हाल में माल्या ने बयान जारी कर स्पष्ट किया था कि बैंक अब तक उनके शेयरों की बिक्री से कुल 1244 करोड़ रुपए की वसूली कर चुके हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *