इंडिया ने इंग्लैंड को दी पारी और 75 रनों से पटकनी, 4-0 से किया सीरीज पर कब्जा

kohli-teamचैन्नई में हुए चौथे और अंतिम टेस्ट में भारत ने इंग्लैंड को हरा कर 5 मैचों की टेस्ट सीरीज पर 4-0 से अपना कब्जा जमा लिया. भारत ने इस मैच में पारी और 75 रनों से इंग्लैंड को पटकनी दी. इंग्लैंड की दूसरी पारी को भारत ने 207 रन पर समेट दिया. इस पारी में रवींद्र जडेजा ने सबसे ज्यादा 7 विकेट लिए. साथ ही इस मैच में सबसे ज्यादा विकेट लेने का श्रेय भी जडेजा के नाम ही रहा. उन्होंने मैच की दोनों पारियों को मिलाकर 10 विकेट लिए. यह पहला मौका है, जब जडेजा ने किसी टेस्ट मैच में 10 विकेट हासिल किए हैं.

सोमवार को भारत ने 759/7 पर अपनी पहली पारी घोषित की थी. भारत की ओर से करुण नायर (303*) ने इस पारी में तिहरा शतक लगाया था, जबकि ओपनर केएल राहुल ने 199 रन बनाए थे. कप्तान विराट कोहली (235) ने भी दोहरा शतक जमाया. वहीं रविचंद्रन अश्‍विन ने इस सीरीज में सबसे ज्यादा 28 विकेट अपने नाम किए. भारत के लिए यह सीरीज इसलिए भी खास रही कि उसे इस सीरीज से दो नए खिलाड़ी मिले. जयंत यादव और करुण नायर ने अपने डेब्यू मैच में ही कारनामा दिखाया. मुंबई में 9 नबंर पर बैटिंग करने उतरे जयंत ने शतक जड़ा. 9 वें नंबर पर शतक जड़ने वाले वह पहले भारतीय बने. वहीं करुण नायर ने अपने तीसरे टेस्ट मैच में ही तिहरा शतक बना दिया. अपने पहले शतक को तिहरे शतक में जड़ने वाले वह पहले भारतीय और दुनिया के तीसरे बल्लेबाज बने.
राजकोट में खेला गया सीरीज का पहला टेस्ट मैच ड्रॉ कराने के बाद किसी भी मैच में इंग्लैंड की टीम कुछ दमखम नहीं दिखा पाई. इसके बाद बाकी के सभी टेस्ट मैचों में वह बेहद साधारण टीम दिखी. राजकोट के बाद विशाखापत्तनम, मोहाली, मुंबई और आज चेन्नई में खेले गए सभी 4 टेस्टे मैचों में इंग्लैंड को हार का सामना करना पड़ा.
इस सीरीज में भारतीय टीम शुरू से ही अजेय बनी रही और इंग्लैंड की टीम एक भी मैच नहीं जीत पाई. यह मैच जीतने के साथ ही सबसे ज्यादा मैचों में अजेय रहने के मामले में विराट कोहली ने पूर्व कप्तान कपिल देव को पीछे छोड़ दिया है. कपिल की कप्तानी में टीम इंडिया सितंबर 1985 से मार्च 1987 के बीच लगातार 17 टेस्ट मैच जीती है, अब विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया लगातार 18 मैचों जीत दर्ज कर चुकी है. इसके साथ ही टीम इंडिया टेस्ट रैंकिंग में नंबर 1 पायदान पर काबिज है.