सर्जिकल स्ट्राइक के निशाने पर आए आईएसआई चीफ की छुट्टी

226839530-ltgenrizwanakhtar_6पाकिस्तान में आईएसआई प्रमुख रिजवान अख्तर को उनक पद से हटा दिया गया है. बताया जा रहा है कि पीओके में भारत द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की समय पर खुफिया जानकारी नहीं मिलने के कारण उनको निशाना बनाया गया है. पाकिस्तान में नए सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा की नियुक्ति के बाद से ही यह कयास लगाया जा रहा था कि आईएसआई प्रमुख को उनके तय समय से पहले ही रुखसत किया जा सकता है.

लेफ्टिनेंट जनरल नवीद मुख्तार को नया आईएसआई चीफ बनाया गया है. भारत ने बेहद गुप्त तरीके से सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था, जिसकी भनक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को नहीं लग पाई थी. 29 सितंबर को पैरा कमांडोज ने एलओसी के पार पीओके में घुसकर आतंकियों के लॉन्चिंग पैड्स पर हमला किया था और 38 आतंकी मार गिराए थे.

रिजवान ने नवंबर 2014 में आईएसआई चीफ का पद संभाला था. सामान्य तौर पर इस पद पर तीन साल के लिए नियुक्ति की जाती है. बताया जा रहा है कि लेफ्टिनेंट जनरल अख्तर पाकिस्तान के एक अखबार में छपी खबर के बाद से ही विवादों में आ गए थे. शरीफ सरकार ने आर्मी से कहा था कि या तो आतंकवादियों के खिलाफ सख्त कदम उठाए या फिर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलग-थलग पड़ने को तैयार हो जाए.

1983 में मुख्तार ऑर्म्ड कॉर्प्स रेजीमेंट में कमीशंड हुए थे. वे क्वेटा के कमांड एंड स्टाफ कॉलेज से ग्रैजुएट हैं. उन्हें इंटेलिजेंस विंग का काफी अनुभव है. वे आईएसआई की काउंटर टेररिज्म विंग के भी चीफ रह चुके हैं. जनरल बाजवा ने सेना के शीर्ष पदों पर भी बदलाव किए हैं. गौरतलब है कि दो हफ्ते पहले जनरल राहील शरीफ की जगह बाजवा को पाक आर्मी चीफ बनाया गया है.