कोई भी ई-वॉलेट कंपनी नहीं है सुरक्षित, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

mobile_wallet2

नई दिल्ली (ब्यूरो, चौथी दुनिया):  एक तरफ मोदी सरकार देश में मोबाइल फोन के जरिए डिजिटल पेमेंट्स और कैशलेस कल्चर को बढ़ावा देने पर जोर दे रही है,तो वहीं चिपसेट मेकर कंपनी क्वालकॉम का दावा भारत की रफ्तार में रोड़ा बन सकता है। कंपनी ने बताया कि भारत में इस्तेमाल होने वाला कोई भी मोबाइल एप सुरक्षित नहीं हैं।

कंपनी ने बताया कि भारत में कोई भी ई-वॉलेट कंपनी और मोबाइल बैंकिंग ऐप्लिकेशन हार्डवेयर लेवल सिक्योरिटी का इस्तेमाल नहीं करता है। जिसकी वजह से ऑनलाइन लेन-देन बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं माना जा सकता है।

कंपनी के प्रॉडेक्ट मैनेजर ने बताया कि दुनिया भर की ज्यादातर बैंकिंग और वॉलट एप्स हार्डवेयर सिक्योरिटी का इस्तेमाल नहीं करती है। इसकी वजह है कि ये एप्स एंड्रायड मोड पर चलती हैं। जिससे किसी भी हैकर के लिए पासर्वड चुराना आसान है। यहां तक की फिंगर प्रिंट्स की स्कैनिंग भी कैप्चर की जा सकती है। ऐसे में डिजिटल भारत के सपने पर ग्रहण लगता नजर आ रहा है।

loading...