सावधान! इंफेक्शन का कारण हो सकता है इयरफोन शेयरिंग

Earphone इयरफोन इस्तेमाल करने के कुप्रभाव आए दिन सुनने को मिलते रहते हैं, कई बार ये घातक भी होते हैं. इसकी वजह से लोग सडक दुर्घटना के भी शिकार हो जाते हैं. इयरफोन के अधिक इस्तेमाल से सुनने में परेशानी, और कान दर्द की समस्या भी बढ़ रही है. लेकिन हाल के दिनों में इसका जो कुप्रभाव सामने आ रहा है, वह कुछ ज्यादा ही गंभीर है. दोस्तों के बीच एक-दूसरे के कान से इयरफोन निकाल कर खुद गाने सुनना आजकल आम बात है. लेकिन अगर आप भी इस आदत के शिकार हैं, तो यह आपको अस्पताल पहुंचा सकता है. एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि इयरफोन शेयरिंग कान के इंफेक्शन का बड़ा कारण है. लगातार इस्तेमाल से इयरफोन कई तरह के बैक्टीरिया के संपर्क में आ जाता है. चूंकि इस्तेमाल के समय इयरफोन कान के अंदरुनी हिस्से के संपर्क में रहता है. इसलिए कई बार वो बैक्टीरिया कान की कोशिकाओं को क्षति पहुंचाने लगते हैं. वहीं इयरफोन जब किसी और के कान के संपर्क में आता है, तो वे बैक्टीरिया उस व्यक्ति के कानों में भी आसानी से प्रवेश कर जाते हैं, जो इंफेक्शन का बड़ा कारण होते हैं.

इस अध्ययन में यह बात भी सामने आई है कि जरूरत से ज्यादा इयरफोन का इस्तेमाल भी कानों के लिए नुकसानदेह हो सकता है. इयरफोन के लगातार इस्तेमान से कान की कई नाजुक कोशिकाओं के क्षतिग्रस्त होने की आशंका ब़ढ जाती है. 50 छात्रों पर किए गए एक सर्वे में यह बात निकलकर सामने आई है कि उन छात्रों का कान बैक्टीरियल इंफेक्शन का शिकार था, जो लगातार इयरफोन का इस्तेमाल करते हैं. मोबाइल पर संगीत सुनते समय हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उसका वॉल्यूम अधिकतम लेवल से 40 प्रतिशत कम हो. साथ ही यह कोशिश करनी चाहिए कि हम इयरफोन की जगह हेडफोन का इस्तेमाल करें, क्योंकि हेडफोन का संपर्क कान के अंदरुनी हिस्से से नहीं होता है.