यूएस ने 35 रूसी डिप्लोमैट्स को दिया देश छोड़ने का आदेश, साइबर हैकिंग का आरोप

USअमेरिका ने 35 रूसी डिप्लोमैट्स को यूएस छोड़ने का आदेश दिया है, साथ ही 2 रूसी इंटेलिजेंस एजेंसीज जीआरयू और एफसीबी को बैन कर दिया गया है. रूसी अधिकारियों को 72 घंटे के भीतर परिवार समेत अमेरिका छोड़ने के लिए कहा गया है. यूएस ने 56 साल पुरानी विएना संधि को भी तोड़ दिया है. हाल में हुए चुनाव में रूसी डिप्लोमैट्स पर लगे साइबर हैकिंग के आरोप के बाद यह कदम उठाया गया है. 2016 के प्रेसिडेंशियल इलेक्शन में राजनीतिक दलों और नेताओं के सर्वर्स और ईमेल्स की हैकिंग में रूस का हाथ सामने आया था.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह ऑर्डर गुरुवार को जारी किया. ओबामा ने यह कदम व्हाइट हाउस छोड़ने के 20 दिन पहले उठाया है. ओबामा ने रूस को लेकर सतर्क रहने की भी बात कही है. हवाई में छुट्टियां मना रहे ओबामा ने एक बयान में कहा, हमने रूस की सरकार को कई पर्सनल और ऑफिशियल वॉर्निंग भेजने के बाद यह कदम उठाया है. यह इंटरनेशनल रूल्स का वॉयलेशन करके अमेरिका के हितों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करने वालों के खिलाफ जरूरी और सही कार्रवाई है.

Read Also: अमेरिका की सबसे बड़ी चिंता का नाम है डोनाल्ड टंप

उधर रूस ने बदले की कार्रवाई की धमकी दी है. रूस की तरफ से ओबामा एडमिनिस्ट्रेशन को लूजर्स कहा है. हालांकि कहा जा रहा है कि हो सकता है, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ट्रम्प यह बैन हटा दें. क्योंकि ट्रंप को पुतिन का करीबी माना जाता है. ट्रम्प ने ओबामा और डेमोक्रेट्स पर सत्ता के बदलाव में रोड़े अटकाने का आरोप लगाया है.

loading...