जवानों की शिकायतों के बाद एक्शन में सरकार, की जाएगी अफसरों के घर तैनात जवानों की समीक्षा

bsfसरकार ने आदेश दिया है कि अफसरों के घर तैनात जवानों की समीक्षा की जाय. साथ ही अब सेना से हर महीने ऑडिट रिपोर्ट देने को भी कहा गया है. सेना के अंदर जवानों की शिकायतों के निवारण के लिए सैन्य तंत्र को आंतरिक रूप से भी अधिक पारदर्शी बनाने के लिए कदम उठाने पर काम करने को कहा गया है. इन सबके साथ जवानों को भी यह चेतावनी दी गई है कि वे सोशल मीडिया पर शिकायतें पोस्ट ना करें. इस मुद्दे पर सेना प्रमुख ने कहा कि हमारे कुछ साथी अपनी समस्या के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं. इससे हमारे वीर जवानों के मनोबल पर असर पड़ता है. अगर आपकी कोई समस्या है, तो उसके लिए सेना में मौजूद सिस्टम का इस्तेमाल करें. आप सीधे मुझसे संपर्क कर सकते हैं.

बीएसएफ जवान तेज बहादुर द्वारा खराब खाने को लेकर सोशल मीडिया पर वीडियो डालने के बाद, सेना और सीआईएसएफ के जवानों की तरफ से भी आई और भी शिकायतों को सरकार ने गंभीरता से लिया है. खराब खाने को लेकर जवान के वीडियो पर आज बीएसएफ गृह मंत्रालय को अपनी फाइनल रिपोर्ट सौंप सकता है. इस मसले पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर सेना प्रमुख बिपिन रावत से बात कर सकते हैं. रक्षा मंत्री ने कहा है कि मैंने सेना प्रमुख के साथ इस मुद्दे को उठाया है. जवानों के मुद्दों को हल करने के लिए सेना से एक रिपोर्ट भी मांगी गई है. इसके अलावा, ऐसा सिस्टम भी बनाने की कोशिश की जा रही है, जहां शिकायतों को अनौपचारिक रूप से हल किया जा सके.

Loading...