चीन पर गलतबयानी कर फंसा हाफिज सईद

hafiz-saeedजमात-उद-दावा के आका हाफिज सईद को गलतबयानी के कारण अंतरराष्ट्रीय बिरादरी में शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा. दरअसल, संगठन ने एक बयान जारी किया था कि पाकिस्तान में आतंक फैलाने में चीन और रूस का हाथ है. जब हाफिज सईद को इस बयान के बारे में पता चला, तब उसने तुरंत इसमें संशोधन करने के लिए कहा.

हुआ यूं कि 2008 मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड सईद ने यह बयान दिया था कि पाकिस्तान को चीन और रूस पर दबाव बनाना चाहिए, ताकि वो भारत को पाकिस्तान में आतंकवाद फैलाने से रोकें. सईद ने पाक में आतंकवाद फैलाने में भारत का हाथ बताया था. उसने शरीफ सरकार को चीन-रूस पर दबाव बनाने की सलाह दी थी ताकि वे भारत को ऐसा करने से रोकें. सईद जमात-उद-दावा के हेड ऑफिस में मीडिया को संबोधित कर रहे थे. लेकिन जमात-उद-दावा ने प्रेस रीलिज जारी करते वक्त गलत बयान जारी कर दिया.

जमात के प्रवक्ता अहमद नदीम ने बताया कि पाकिस्तान में आतंक फैलाने वाले देशों में गलती से चीन और रूस का जिक्र हो गया था. हाफिज सईद ने आगे कहा था कि शरीफ सरकार को चीन-पाक इकोनॉमिक कॉरीडोर के मसले को कश्मीर की आजादी से जोड़ना चाहिए.   इसके लिए पाक सरकार अपने मंत्रिमंडल के साथ संयुक्तराष्ट्र संघ दफ्तर के बाहर धरना दे. पाक सरकार को इसके लिए भी प्रयत्न करने की जरूरत है कि कश्मीर मसले पर कश्मीरियों को आत्मनिर्णय का अधिकार मिले. शरीफ सरकार को तब तक वहां धरना देना चाहिए जब तक कि भारत कश्मीरियों का उत्पीड़न बंद न कर दे. इसके आगे उन्होंने कहा कि पाक सरकार को भारत के साथ अपने व्यापारिक संबंध भी तोड़ लेने चाहिए.