करण जौहर को कहीं भारी न पड़ जाए ये फैसला

पिछले दिनों जब करण जौहर ने अपनी जल्द रिलीज होने वाली बॉयोग्राफी द अनसूटेबल बॉय में खुलासा किया कि अब उनकी और काजोल की 25 साल पुरानी दोस्ती खत्म हो चुकी है, तो हर कोई हैरान रह गया था. लेकिन अब लगता है कि बात काफी आगे बढ़ चुकी है और करण व काजोल की लड़ाई अब करण जौहर वर्सेज अजय देवगन में तब्दील हो गई है. इसका पहला दौर दिवाली पर ऐ दिल है मुश्किल और शिवाय के क्लैश के दौरान दिखा था और अब इस लड़ाई का दूसरा दौर शुरू हो चुका है.

हाल में फिल्म डिस्ट्रीब्यूटर संजय घई ने ट्‌वीट किया, करण जौहर ने उन सब सिंगल स्क्रीन को एक साल के लिए बैन कर दिया है, जिन्होंने शिवाय रिलीज की थी. इस बारे में बात करने पर घई ने बताया, करण ने एक बड़ी कॉरपोरेट फिल्म कंपनी के साथ मिलकर उन सभी सिंगल स्क्रीन को बैन कर दिया है, जिन्होंने शिवाय रिलीज की थी. ऐसे में, शिवाय रिली़ज करने वाले सिनेमाघरों को फिल्म ओके  जानू भी नहीं दी गई थी और आने वाले दिनों में उन्हें करण की बाकी फिल्मों समेत बाहुबली 2 भी नहीं मिलेगी. करण से जब इस बारे में बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया.

घई, करण से कहना चाहते हैं कि सिंगल स्क्रीन वालों की म़जबूरी होती है कि वे एक बार में एक ही फिल्म चला सकते हैं. वहां स्क्रीन शेयरिंग करना भी संभव नहीं है. कभी एक को ज्यादा स्क्रीन मिल जाती है, तो कभी दूसरे को, लेकिन किसी स्क्रीन को बैन करना ठीक नहीं है. बहरहाल, अब जब जंग छिड़ ही चुकी है, तो हम अजय देवगन के साथ हैं.

करण जौहर का यह रवैया ठीक नहीं है. उनके खिलाफ हम कॉम्पिटीशन कमिशन में जाने की प्लानिंग कर रहे हैं. बता दें कि इससे पहले अजय देवगन भी आदित्य चोपड़ा की शाहरुख खान स्टारर जब तक है जान के खिलाफ कॉम्पिटीशन कमिशन चले गए थे, जब उनकी फिल्म सन ऑफ सरदार को कम स्क्रीन मिली थी. वहीं करण और काजोल की आपसी नाराजगी भी जगजाहिर हो चुकी है.

करण जौहर के इस रवैये से तो लगता है कि सफलता का घमंड उनके सिर चढ़कर बोल रहा है. करण और अजय के बीच बढ़ते टकराव का कारण तो समझ में आता है कि दिवाली के समय दोनों की फिल्मों को लेकर आपस में भिड़ंत हुई थी. दोनों फिल्में चलीं भी और दोनों को नुकसान भी हुआ.

लेकिन काफी समय बीत जाने के बाद करण का सिंगल स्क्रीन के डिस्ट्रीब्यूटर्स को खुद की फिल्में न देने का फैसला उचित नहीं कहा जा सकता है. लगता है कि करण जौहर इस बात से भी बौखलाए हुए हैं कि उनके पास ऐ दिल है मुश्किल के ज्यादा से ज्यादा मल्टीप्लैक्स स्क्रीन के शो बुक होने के बावजूद उनकी फिल्म ने भारत में सिर्फ 112 करोड़ का ही बिजनेस किया.

जबकि शिवाय के पास ज्यादा से ज्यादा सिंगल स्क्रीन के शो ही थे, जिसके जरिए फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अपना दवाब बनाए रखा था और फिल्म ने 100 करोड़ से अधिक का कारोबार किया. यह एक बहुत बड़ी बात है कि कोई फिल्म लगभग सिंगल स्क्रीन पर निर्भर होकर इतना बड़ा व्यापार कर जाए. क्योंकि मल्टीप्लैक्स और सिंगल स्क्रीन की टिकटों में जमीन आसमान का फर्क होता है.

शायद इसी बौखलाहट में करण जौहर का सिर घूम गया है और वह यह बात पचा नहीं पा रहे हैं. इसलिए अजय के साथ अपनी लड़ाई में करण ने सिंगल स्क्रीन के डिस्ट्रीब्यूटर्स को भी बीच में घसीट लिया है. ़खैर हम तो यही कहेंगे कि करण जौहर का दिमाग़ फिर गया है, जो ऐसी हरकत करने पर अब उतारू हो गए हैं.