कप्तान विराट कोहली ने जड़ा अपने करियर का 16वां शतक

virat kohli, century, bangladesh, indiaबांग्लादेश के खिलाफ खेले जा रहे इकलौते टेस्ट मैच के पहले दिन भारत को उस वक्त तीसरा झटका लगा जब सलामी बल्लेबाज मुरली विजय 108 रनों की शतकीय पारी खेलकर पैवेलियन लौटे। ये विजय के करियर का नौंवा टेस्ट शतक था।

समाचार लिखे जाने तक चायकाल के बाद टीम इंडिया ने 69 ओवर्स के बाद 3 विकेट खोकर 242 रन बना लिए है। कप्तान विराट कोहली (39) तो अजिंक्य रहाणे (3) रन बनाकर क्रीज पर मौजूद है।

इसके पहले मुरली विजय और चेतेश्वर पुजारा ने बीच हुई शतकीय भागीदारी का उस वक्त अंत हुआ जब बांग्लादेशी स्पिनर मेहदी हसन ने पुजारा को स्टंप्स के पीछे विकेटकीपर मुश्फिकुर रहमान के हाथों कैच करवाया। 83 रनों पर पैवेलियन लौटे पुजारा अपने 11वें शतक से चूूक गए।

भारत ने गुरुवार को बांग्लादेश के खिलाफ एकमात्र टेस्ट मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। पिछले टेस्ट में शतक लगाने वाले करूण नायर को इस मैच में मौका नहीं मिला।

भारत को पहले ही अोवर में झटका लगा जब तस्कीन ने मेहमानों को सफलता दिलाई। तस्कीन की गेंद को राहुल (2) स्टंप्स पर खेल बैठे। भारत को पहला झटका मात्र 2 के स्कोर पर लग गया, इसके बाद विजय और पुजारा ने पारी को संभाला। विजय जब 35 के स्कोर पर थे तब वे रन आउट हो सकते थे, लेकिन गेंदबाज मेहदी हसन ने उन्हें रन आउट करने का आसान मौका गंवाया।

भारत ने इस मैच के लिए टीम में दो स्पिनरों रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा को शामिल किया। मेजबान टीम ने तीन तेज गेंदबाजों को प्लेइंग इलेवन में मौका दिया। इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट में तिहरा शतक लगाने वाले करूण नायर को मौका नहीं मिला क्योंकि अजिंक्य रहाणे की टीम में वापसी हुई।

टेस्ट क्रिकेट में ऐसा मौका 87 साल बाद आया जब किसी बल्लेबाज को तिहरा शतक लगाने के बाद अगले टेस्ट में बाहर बैठना पड़ा। ऐसा इंग्लैंड के एंडी सांधम के साथ 1930 में हुआ था।