चहल की धुआंधार गेंदबाजी ने भारतीय टीम को दिलाई जीत

yuzvendra-chahal-india-england-t-20-seriesभारतीय टीम के युजवेंद्र चहल ने (25/6) की धुंआधार गेंदबाजी की बदौलत एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में बुधवार को हुए तीसरे और आखिरी टी-20 मुकाबले में भारतीय टीम इंग्लैंड को 75 रनों से हरा तीन मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम करने में सफल हो पायी।

यह मैच अपने आखिरी चरण में और अधिक रोमांचक हो गया जब एक के बाद एक इंग्लैंड की टीम के विकेट गिरने लगे. उस वक़्त मानो ऐसा लगा जैसे इंग्लैंड के खिलाड़ियों का मनोबल टूट गया.

भारत की टीम ने इंग्लैंड की टीम के सामने 203 रनों का लक्ष्य रखा था लेकिन इंग्लैंड की टीम महज 16.1 ओवरों में 127 रन बनाकर चलती बनी। इस रोमांचक मुकाबले में याजुवेंद्र चहल की गेंदबाजी के चलते उन्हें मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ सीरीज बनाया गया।

चहल आईपीएल के दौरान रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम में खेल छुए हैं. इस टीम में विराट कोहली ने कप्तानी की थी. इंग्लैंड की पारी के दौरान 14वें ओवर में चहलने लगातार दो गेंदों पर इयान मोर्गन (40) और जोए रूट (42) के विकेट चटकाकर मैच का पासा ही पलट दिया।

इंग्लैंड को सैम बिलिंग्स के रूप में पहला झटका आठ के कुल स्कोर पर लगा। बिलिंग्स खाता खोले बगैर चहलकी गेंद सुरेश रैना को थमा चलते बने। हालांकि इसके बाद जेसन रॉय (32) ने रूट के साथ 9.72 की रन गति से 47 रनों की साझेदारी कर अपनी टीम को पटरी पर ला दिया। रॉय 55 के कुल योग पर अमित मिश्रा का शिकार हुए। वह विकेट के पीछे धोनी के हाथों लपके गए। हालांकि इंग्लैंड की राह में ये दोनों विकेट रुकावट नहीं बने।

रूट ने कप्तान मोर्गन के साथ 8.93 की रन गति से 64 रन जोड़ते हुए अपनी टीम को जीत को मजबूती से बढ़ाना जारी रखा। लेकिन चहलके हाथों 14वें ओवर में दोनों बल्लेबाज लगातार दो गेंदों पर पविलियन लौटे और इसके साथ ही इंग्लैंड के हाथों से जीत फिसल गई। रूट ने 37 गेंदों में चार चौके और दो छक्के लगाए, जबकि मोर्गन ने 21 गेंदों की पारी में दो चौके और तीन छक्के जड़े।

इंग्लैंड के आखिरी आठ विकेट मात्र आठ रन जोड़ने में 18 गेंद के भीतर गिर गए। चहलके अलावा जसप्रीत बुमराह ने तीन विकेट चटकाकर जीत में अहम भूमिका निभाई।

टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने महेंद्र सिंह धोनी (56) और सुरेश रैना (63) की बदौलत निर्धारित 20 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 202 रन बनाए। भारत को कप्तान विराट कोहली (2) के रूप में पहला झटका लगा। उनके बाद आए सुरेश रैना ने 45 गेंदों में पांच छक्के और दो चौकों की मदद से तेज-तर्रार अर्धशतकीय पारी खेली। पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 36 गेंदों में पांच चौके और दो छक्के लगाए। धोनी का यह अंतर्राष्ट्रीय टी-20 मैच में पहला अर्धशतक है।

युवराज सिंह ने नौ गेंदों में तीन छक्के और एक चौके की मदद से 27 रनों का योगदान दिया। लोकेश राहुल ने 22 रन जुटाए। पदार्पण मैच खेल रहे युवा ऋषभ पंत ने छह रन और हार्दिक पांड्या ने 11 रनों का योगदान देते हुए टीम को 200 के पार पहुंचाया।

Loading...