कहा मेरी नहीं हुई तो किसी और की भी नही हो सकती और फिर…

engineer-anjali-rathore-murder-case-accused-arrested

नई दिल्ली : 31 मई को इंजीनियर अंजली राठौर की गोली मारकर हत्या करने वाला आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़ चूका है. आरोपी युवक का नाम अश्व‍नी है और वो मृतक लड़की का दोस्त था. जानकारी के मुताबिक़ अश्व‍नी ने गोली मारकर अंजली की हत्या कर दी थी. जिसके बाद जांच में जुटी पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है.

जानकारी के मुताबिक़ अंजली और अश्व‍नी दोस्त थे लेकिन अश्वनी इस रिश्ते को दोस्ती से आगे ले जाना चाहता था और ये बात उसने अंजली को बताई थी लेकिन अंजली को ये बात पसंद नही आई और वो अश्वनी के साथ दोस्ती तोड़ना चाहती थी। अश्वनी इसी बात को लेकर अंजली को मनाना चाहता था पर जब वो नहीं मानी तो उसने अंजली को मौत के घाट उतार दिया.

पूछताछ में अश्वनी ने बताया, मैं अंजली के साथ लवली यूनिवर्सटी में साथ-साथ था। वहां से मैंने बीबीए और अंजली ने बीटेक कम्पलीट किया। इसके बाद अंजली को नोएडा सेक्टर-62 में लावा कंपनी में जॉब मिल गई। मैं भी लाजपत नगर में शुभम फैशन शो रूम में प्राइवेट नौकरी करने लगा।

मैं अंजली को पसंद करता था, उसे हर हाल में अपने पास रखना चाहता था। इसके लिए किसी भी हद तक जा सकता था। लेकिन अंजली मुझे सिर्फ दोस्त मानती थी। मेरे बार-बार समझाने के बाद भी वो नहीं मानी। मेरी दीवानगी उसे परेशान करती थी, इसलिए वो दोस्ती भी खत्म करना चाहती थी। 29 मई की शाम वो मुझसे मिली और बोली- वो दोस्ती खत्म करना चाहती है। मैं उससे दूर रहूं और फोन करके उसे परेशान न करूं।

अंजली की न सुनकर मैं बौखला गया था। 31 मई की सुबह मैं अंजली से मिलने उसके अपार्टमेंट गया। मैंने उसे बेसमेंट में बुलाया और दोबारा से समझाने की कोशि‍श की, जब वो नहीं मानी तो मैंने कहा- तू मेरी नहीं तो किसी और की भी नहीं हो सकती और बैग में रखी पिस्टल निकाल उसके सिर में गोली मार दी।

घटना को अंजाम देने के बाद वह मैनपुरी भाग गया था, जहां अपने रिश्तेदार के घर में छिपा हुआ था। वहीं से उसे गिरफ्तार किया गया। अश्वनी को पिस्टल उसके एक दोस्त ने दी थी, उसकी भी तलाश की जा रही है।

अंजली (25) मूल रूप से हरियाणा के यमुनानगर की रहने वाली थी। नोएडा के सेक्टर-62 स्थित शताब्दी विहार सोसाइटी में रहती थी। सेक्टर-62 स्थित लावा कंपनी में काम करती थी।