गैंगस्टर आनंदपाल के अंतिम संस्कार से भड़की बेटी ने दी धमकी

anand pal singh encounter

नई दिल्ली: राजस्थान में गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के शव का 20 दिन बाद गुरुवार शाम को उसके पैतृक गांव नागौर जिले के सांवराद गांव में भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में अंतिम संस्कार कर दिया गया। अंतिम संस्कार के वक्त जब गैंगस्टर का शव निकाला गया तो वह बुरी तरह से खराब हो चुका था. अंतिम संस्कार के दौरान किसी आम आदमी को सांवराद गांव में प्रवेश नहीं दिया गया।

इस मौके पर आनंदपाल की बड़ी बेटी चीनू ने दुबई से दैनिक भास्कर से गयी फोन बातचीत में बताया है कि उनके परिवार के साथ बहुत गलत किया गया है. उनके परिवार के सभी मर्दों को जेल में बंद कर दिया गया और उन्हें वापस देश भी नहीं लौटने दिया गया है. चीनू दुबई में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रही हैं।

चीनू ने फ़ोन पर हुई बातचीत में बताया है कि पुलिस ने हदें पार कर दी। मेरी मां, बहन, भाई बेहोश हैं। हमारे घर पर कोई पुरुष सदस्य नहीं था। यहाँ तक की उनके परिवार की गैर मौजूदगी में ही उनके पिटा के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया. इसका परिणाम सरकार को भुगतना पड़ेगा।

3 सितंबर 2015 को अजमेर पुलिस आनंदपाल को नागौर के लाडनूं में पेशी पर लेकर आई थी। पेशी से लौटते समय योजना के अनुसार परबतसर के पास बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी और आनंदपाल, श्रीवल्लभ व सुभाष मूंड को छुड़ाकर ले गए। आनंदपाल पुलिस की एक एके-47 भी अपने साथ ले गया था। एसओजी ने आनंदपाल की बेटी की भूमिका को भी संदिग्ध माना था।