चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले में राबर्ट वाड्रा ने BJP को लिया आड़े हाथ

chandigarh molesting robert vadra attacks on bjp

नई दिल्ली: जैसा कि लोग अनुमान लगा रहे थे वैसा ही हुआ. बीते शुक्रवार को हुए चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले पर देर से ही सही अब राजनीति होने लगी है. अब तो यह आम बात हो गयी है. छेड़छाड़ का मामला हो या फिर रेप की घटना. राजनेता अपनी हरकतों से बाज नहीं आते हैं. इस बार कांग्रेस पार्टी इस मामले को लेकर केंद्र सरकार और बीजेपी पर पूरी तरह से हमलावर है. अब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने इस मसले पर बीजेपी पर हमला बोला है. वाड्रा ने मंगलवार सुबह फेसबुक पोस्ट किया था.

वाड्रा ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि ये काफी चौंकाने वाला है कि एक महिला के साथ छेड़छाड़ होती है, लेकिन आरोपियों के साथ इसलिए ढीला बरताव किया जा रहा क्योंकि वह हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष का बेटा है. अब बेटी बचाओ के नारे का क्या हुआ?

उन्होंने लिखा कि सोशल मीडिया पर जिस तरह पीड़ित महिला के बारे में लिखा जा रहा है वह शर्मनाक है, सीएम ने इस मामले पर जैसे टिप्पणी दी है वह भी शर्मनाक है. यह कोई व्यक्तिगत मामला नहीं है, इस तरह के व्यवहार पर किसी तरह की सफाई पेश नहीं की जा सकती है.

आपको बता दें कि यह मामला शुक्रवार की रात का है जब चंडीगढ़ में एक आईएएस अफसर की बेटी वर्णिका कुंडू अपनी कार से जा रही थी. पीछे से एक कार ने हॉर्न दिया. वर्णिका ने कार को साइड दे दिया. लेकिन ये क्या कार वर्णिका की कार के आगे आकर रुक गई. उसमें से दो लड़के नीचे उतरे. वर्णिका की तरह बढ़ने लगे. उसने लड़को का इरादा भांप लिया. कार को रिवर्स कर भागने लगी.

उन दोनों मनचलों ने वर्णिका का पीछा करना शुरू कर दिया. वर्णिका का पीछा करने वाला कोई और नहीं बल्कि हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष सुभाष बराला का बेटा विकास बराला और उसका एक दोस्त है. उसने सोचा कि वह अपने पिता के रुतबे की धौंस में सड़क पर किसी लड़की को अगवा कर लेगा, लेकिन वर्णिका ने अपनी बहादुरी से उसको नीचता का एहसास करा दिया.

शुक्रवार से ही यह मामला मीडिया में छाया हुआ है और ऐसे हो भी क्यों ना आखिर आप अगर किसी नेता के बेटे हैं तो आपको किसी लड़की को छेड़ने का अधिकार नहीं मिल जाता. यही वजह है कि इस घटना के बाद से महिला संगठन फ्रंट फुट पर आ गये हैं और आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.