फर्जी ख़बरों के प्रचार को रोकने के लिए Facebook ने लिया बड़ा फैसला

नई दिल्ली: सोशल मीडिया के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम बन चुकी दिग्गज सोशल नेटवर्किंग कम्पनी फेसबुक ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर झूठी ख़बरों और सूचनाओं पर लगाम लगाने ले लिए एक बड़ा फैसला लिया है जिसके तहत अब फ़र्ज़ी खबरे शेयर करने वालों को विज्ञापन नहीं दिया जाएगा.

वेबसाइट ‘टेकक्रंच’ की रिपोर्ट के मुताबिक, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जैसे ही किसी खबर को विवादित खबर के तौर पर पेश किया जाएगा, तो उस खबर के लिंक को फेसबुक द्वारा दिए जाने वाले विज्ञापन मिलने बंद हो जाएंगे।

इस फैसले को जल्द से जल्द अमल में लाने के लिए फेसबुक ने खबरों की सत्यता की जांच करने वाली वेबसाइट ‘स्नोप्स’ और ‘एपी’ से हाथ मिलाया है। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान चुनाव को प्रभावित करने वाली फर्जी खबरें प्रसारित करने को लेकर आलोचना झेल चुके फेसबुक ने पिछले एक साल में इस दिशा में कई अहम कदम उठाए हैं।

फेसबुक के प्रोडक्ट डायरेक्टर रॉब लीथर्न ने कहा, “फेसबुक इससे तीन तरीके से निपटने की कोशिश कर रहा है। पहला फर्जी खबरें पोस्ट करने वालों का आर्थिक लाभ खत्म कर, दूसरा इस तरह की फर्जी खबरों के फैलने की गति धीमी कर और तीसरा इस तरह की फर्जी खबरें सामने आने पर व्यक्ति को उससे जुड़ी और खबरें/सूचनाएं प्रदान करना होगा।”