चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामला: आरोपी ने कबूल किया, कर रहा था वर्णिका की कार का पीछा

haryana-bjp-chief-son-admits-vikas-barala-confesses-chasing-varnika-car

नई दिल्ली: पिछले लगभग एक हफ्ते से देश का ज्वलंत मुद्दा बन चुका चंडीगढ़ का वर्णिका कुंडू छेड़छाड़ मामला अब सभी की जुबां पर चढ़ गया है. इस मामले में जहाँ आरोपी विकास बराला को गिरफ्तार करने के बाद रिहा कर दिया गया था वहीँ कल इस मामले में फिर से आरोपी युवक विकास बरला और आशीष की गिरफ्तारी हो गयी है. गिरफ्तारी के बाद पुलिस पूंछतांछ में विकास ने खुलासा किया है कि वो वर्णिका की कार का पीछा कर रहा था.

यह जानकारी पुलिस सूत्रों के हवाले से मिली है. आरोपी विकास बरला पर यह भी आरोप था कि उसने और उसके दोस्त ने वर्णिका के अपहरण की कोशिश भी की थी. लेकिन पुलिस सूत्रों की मानें तो विकास बरला ने अपहरण के आरोप को पूरी तरह से गलत बताया है. विकास बरला ने तो साफ़ तौर पर कह दिया है कि उन्होंने अपहरण करने की कोशिश नहीं की थी तो हो सकता है कि वो वर्णिका की कार रुकवाकर उनसे राखी बंधवाने ही गये होंगे. लेकिन क्या कोई भाई अपनी बहन की कार बीच रास्ते में रुकवाता है वो भी रात को शराब के नशे में. ये सारी चीज़ें इत्तेफाक तो हो नहीं सकती है.

आपको बता दें कि 5 अगस्त को चंडीगढ़ पुलिस ने विकास बराला और उनके साथी को वर्णिका जो कि पेशे से एक डीजे हैं उनसे छेड़छाड़ के आरोप में गिरफ्तार किया था, लेकिन उसी दिन उन्हें बेल मिल गई थी. पुलिस ने इस घटना के बाद इतनी ज़हमत भी नहीं फरमाई की आरोपी और उसके दोस्त का मेडिकल टेस्ट करा सके. जब पहली बार आरोपी को गिरफ्तार किया गया था तब उसके उसके ऊपर आईपीसी और मोटर व्हीकल्स कानून की जमानती धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था.

इस हाइप्रोफाइल मामले में सड़क से लेकर संसद तक हंगामा मचने के बाद पुलिस ने हरियाणा बीजेपी के अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उस घटना के वक्त उसके साथ रहे उसके साथी आशीष को चंडीगढ़ पुलिस ने बुधवार को दोबारा गिरफ्तार किया और अब उन दोनों को मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, विकास बराला और उसके साथी से पूछा गया कि क्या वे वर्णिका को पहले से जानते हैं, तो उन्होंने इससे इनकार किया और बताया कि उन्होंने उस रात सेक्टर 9 के मध्य मार्ग पर ही वर्णिका को पहली बार देखा था. सूत्रों के मुताबिक, जब उन दोनों से शराब पीने के बारे में सवाल किया गया तो उन दोनों ने बताया कि सेक्टर 8 के लिकर शॉप से उन्होंने 2 बोतल बीयर खरीदी थी. वहीं जब वर्णिका के अपहरण की कोशिश के आरोपों पर सवाल किया गया तो उन्होंने इससे इनकार करते हुए कहा कि उन्होंने बस कार से उसका पीछा किया था.

चंडीगढ़ के पुलिस महानिदेशक तेजिंदर लूथरा ने कहा कि विकास बराला और उसके दोस्त आशीष के खिलाफ आईपीसी की धारा 365 और धारा 511 के तहत अगवा करने की कोशिश के गैर जमानती आरोप लगाए गए हैं. दोनों आरोपियों के खिलाफ सीआरपीसी की धारा 160 के तहत केस दर्ज किया गया, जबकि विकास बराला के खिलाफ आईपीसी की धाराओं 354डी (पीछा करना), 341 (गलत इरादा रखना), 34 और 185 MV धारा (रैश ड्राइविंग) के मामले दर्ज किए गए हैं.