चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले में आरोपी गिरफ्तार, लगाई गयीं गैरजमानती धाराएं

varnika-kundu-molestation-case-bjp-leader-vikas-barala-drunk

नई दिल्ली: बीती शुक्रवार रात को हुए चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले में पुलिस ने अब आरोपी विकास बराला और उसके दोस्त आशीष को गिरफ्तार कर लिया है. दोनों आरोपी पुलिस से समन मिलने के बाद चंडीगढ़ सेक्टर-26 थाने में पेशी के लिए आए थे. दोनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 354D, 341 और 34 के तहत मामला दर्ज किया गया था. अब भारी दबाव के बीच पुलिस ने उनके खिलाफ गैर-जमानती धाराएं 365 और 511 को भी जोड़ दिया है.

जानकारी के मुताबिक, चंडीगढ़ पुलिस ने पूछताछ के लिए आरोपी विकास बराला और उसके दोस्त आशीष को समन जारी किया था. इसमें आज 11 बजे से उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया गया था. विकास ने पहले समन लेने से इंकार कर दिया, तो उसके सेक्टर-7 स्थित घर पर पुलिस ने समन चिपका दिया था. लेकिन आज 11 बजे तक आरोपी थाने नहीं पहुंचे तो चंडीगढ़ पुलिस हरियाणा के टोहाना जिले में स्थित बराला के फार्म हाउस पर छापा मारा था.

इससे पहले छेड़छाड़ मामले में एक नया खुलासा हुआ है जिसने सभी को चौंका कर रख दिया है. दरअसल IAS की बेटी के साथ हुई इस वारदात में आरोपी विकास बराला को लेकर खुलासा हुआ है कि जिस वक्त ये वाकया हुआ था उस वक्त बरला नशे में था क्योंकि उसने जमकर शराब पी रखी थी.

वर्णिका कुंडू के साथ हुए छेड़छाड़ के मामले में पुलिस ने आरोपी विकास बराला और उसके दोस्त को जांच में शामिल होने के लिए समन जारी किया है. इसमें आज 11 बजे से उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया गया है. मंगलवार की शाम को विकास ने पुलिस से समन लेने से इंकार कर दिया, तो उसके सेक्टर-7 स्थित घर पर पुलिस ने समन चिपका दिया. उधर, हरियाणा के विपक्षी दलों ने इस मामले की जांच सीबीआई या हाई कोर्ट के वर्तमान जज से कराने की मांग की है.

घटना के बाद हुई विकास बरला और उसके दोस्त की मेडिकल जांच में यह बात साफ़ हो गयी है कि विकास बराला वारदात के समय पूरी तरह नशे में था. उसने जांच के लिए अपने यूरिन और ब्लड सैंपल देने से इंकार कर दिया था. इसके बाद ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने विकास के मुंह से आ रही बदबू के आधार पर पाया कि दोनों आरोपी शराब के नशे में धुत हैं. इस मामले में आईजी चंडीगढ़ का कहना है कि आरोपियों द्वारा सैंपल नहीं दिया जाना, उनके खिलाफ जा सकता है. इस मामले की जांच अहम मोड़ पर है. अब आरोपियों से पूछताछ बहुत जरूरी है.

जानकारी के मुताबिक, सीसीटीवी फुटेज में एक कार का एसयूवी द्वारा पीछा करना दिख रहा है. ग्यारह सेकेंड के फुटेज में वाहन में बैठे लोगों या वाहन के नम्बर स्पष्ट रूप से नहीं दिख रहे हैं. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने पांच सीसीटीवी कैमरे के फुटेज निकाले हैं. चंडीगढ़ के एसएसपी इश सिंघल ने कहा कि हम सीसीटीवी फुटेज का विश्लेषण कर रहे हैं. हरियाणा में

बता दें कि जब इस मामले की जांच में शुरूआती पहलुओं की पड़ताल की जा रही थी तो पाया गया कि जिस रास्ते से वर्णिका और विकास बरला की कारें निकली हैं उनमें से 9 जगह पर लगे सीसीटीवी कैमरों में से 5 सीसीटीवी कैमरे खराब थे और बाकी 4 सीसीटीवी कैमरों में कुछ खास रिकॉर्ड नहीं हुआ. चंडीगढ़ के इन इलाकों में सीसीटीवी कैमरों का इस तरह खराब हो जाना किसी बड़ी गड़बड़ की तरफ भी इशारा करता है. इस मामले में शक भी जताया जा रहा है कि कहीं किसी ने सीसीटीवी कैमरों से छेड़छाड़ तो नहीं की है.