जानें, बैंक से 50 हज़ार से ज्यादा के लेनदेन के ये नए नियम

original-identification-dea

केन्द्र सरकार ने एक बार फिर से कालेधन पर नकेल कसने के लिए एक नया आदेश जारी किया है. जी हां, सरकार ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि देश में अब किसी भी बैंक अथवा वित्तीय संस्था को 50,000 रुपये से अधिक का लेनदेन करने किसी व्यक्ति से करना है तो उस व्यक्ति का पहचान पत्र का ओरिजिनल डॉक्यीमेंट का मिलान करना अनिवार्य हो गया है.

बता दें कि इस नियम को जारी करने के लिए वित्त मंत्रालय के डिपार्टमेंट ऑफ रेवेन्यू ने मनीलॉन्डरिंग कानून में संशोधन किया है. इतना ही नही सरकार के इस कदम के बाद देश में किसी भी बैंक अथवा वित्तीय संस्था के पास यदि कोई व्यक्ति 50,000 रुपये से अधिक का लेनदेन करता है तो उस व्यक्ति को अपने पहचान पत्र का फोटो कॉपी और ओरिजिनल डॉक्यूमेंट ले जाना अनिवार्य होगा.

नियम के मुताबिक अब आप यदि बैंक अथवा किसी वित्तीय संस्था के साथ 50,000 रुपये का कैश ट्रांजैक्शन करते हैं तो उक्त संस्था को अपने ग्राहक की पहचान स्थापित करना होगा साथ ही ग्राहक द्वारा दिए गए पहचान पत्र का सत्यापन भी करना होगा.

इतना ही नही ये भी बताना होगा कि किस वजह से आप कैश ट्रांजैक्शन कर रहे है और जिस व्यक्ति के साथ ग्राहक का ट्रांजैक्शन हो रहा है उसके साथ क्या बिजनेस रिलेशन है.

इसके आलावा शेयर ब्रोकर, चिट फंड कंपनियां, सहकारी बैंक, आवास वित्त संस्थान और गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों को भी रिपोर्टिंग इकाई के रूप में बांटा गया है.