मिस्र की मस्जिद को आतंकियों ने बनाया निशाना, सेना ने शुरू की जवाबी कार्रवाई

hindi news foreign news terrorist attack on egypt mosque

मिस्र में शुक्रवार को आतंकियों ने अब तक का सबसे भीषण हमला किया है. इस हमले में 235 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि सैकड़ों लोग घायल हो गये हैं. देश में हुए इस भीषण हमले के बाद आतंकियों के खिलाफ जवाबी कार्रवाई भी शुरू कर दी गयी है जिसमें मिस्र की वायुसेना ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू करते हुए उत्तरी सिनाई और इससे लगे हुए इलाकों में बमबारी शुरू कर दी है।

बता दें कि इस हमले के बाद आतंकियों ने अशांत उत्तरी सिनाई क्षेत्र के एक मस्जिद को निशाना बनाया। इस मस्जिद में जिस वक्त आतंकी दाखिल हुए उस वक्त वहां भारी संख्या में लोग जुमे की नमाज अदा करने के लिए जुटे थे, इसके बाद आतंकियों ने आईईडी (इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) से धमाका किया उसके बाद जो भी सामने दिया उसे गोलियों से भून डाला. इस गोला बारी में 235 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है.

सरकारी न्यूज एजेंसी “मेना” के मुताबिक, हमलावरों ने अल-आरिश शहर में स्थित अल-रावदा मस्जिद में खूनी खेल को अंजाम दिया। फिलहाल इस हमले की ज़िम्मेदारी किसी भी आतंकी संगठन ने नहीं ली है लेकिन जिस तरह से यह हमला अंजाम दिया गया है उससे लग रहा है कि ये आतंकी संगठन आइएस की नापाक हरकत हो सकती है.

जानकारी के अनुसार आतंकी चार गाड़ियों में मस्जिद के बाहर पहले से मौजूद थे. जब मस्जिद के अन्दर धमाका हुआ तो वहां मौजूद लोग बाहर की तरफ भागने लगे और इसी की फायदा उठाकर मस्जिद के बाहर मौजूद आतंकियों ने उनपर ताबड़तोड़ गोलियां बरसानी शुरू कर दी. जो भी इन गोलियों की चपेट में आया मौके पर ही उसकी मौत हो गयी.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मस्जिद के बाहर चार वाहनों में आतंकी पहले से ही मौजूद थे। उन्होंने धमाके के बाद बचने के लिए मस्जिद से बाहर भाग रहे श्रद्धालुओं पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं। मस्जिद भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई है। सरकारी टीवी चैनल “मसरिया” से बात करते हुए मिस्र के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता खालिद मुजाहिद ने घटना को आतंकी वारदात करार दिया है। यहां अक्सर सूफी मत के लोग जुटा करते हैं। इस्लामिक स्टेट सूफी मत मानने वालों को विधर्मी मानता है।

Read More on Foreign News: रिहाई के बाद दिखे हाफ़िज़ सईद के बगावती तेवर, कश्मीर को लेकर ये बोला

मिस्र की सेना ने उत्तरी सिनाई क्षेत्र में मौजूद आतंकी ठिकानों पर हवाई हमले शुरू कर दिए हैं। खासकर पहाड़ी इलाकों में बमबारी की जा रही है। आतंकी हमले के बाद मिस्र में तीन दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित कर दिया गया है। राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी ने आपात बैठक कर सुरक्षा हालात की समीक्षा की है।

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकी हमले की निंदा की है। मोदी ने ट्वीट किया- “मैं मिस्र में धार्मिक स्थान पर बर्बर आतंकी हमले की कड़े शब्दों में निंदा करता हूं।”

अमेरिकी राष्ट्रपति ने हमले को डरावना और कायराना करार दिया है। ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरिजा मे और नाटो के महासचिव जेंस स्टॉलटेनबर्ग ने हमले को बर्बर बताया है। तुर्की, इटली और कुवैत ने भी घटना की निंदा की है।

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *