अलास्का एयरलाइन में यौन शोषण का शिकार हुईं मार्क ज़ुकबर्ग की बहन

facebook-founders-mark-zuckerbergs-sister-randi-sexually-harassed

फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग को तो आप सभी जानते होंगे, लेकिन मार्क ज़ुकबर्ग की बहन रैंडी के साथ एक शर्मनाक घटना हुई है. दरअसल अलास्का एयरलाइन में मार्क ज़ुकबर्ग की बहन के साथ सेक्शुअल हरासमेंट की घटना हुई है और इस बात का खुलासा खुद रैंडी ने किया है. रैंडी के साथ हुई घटना के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें जमकर समर्थन मिल रहा है और इस घटना के आरोपी पर कार्रवाई की मांग की जा रही है.

इस मामले के प्रकाश में आने के बाद अब अलास्का एयरलाइन सवालों के घेरे में आ गयी है. एयरलाइन के ऊपर लग रहे आरोपों के बाद अब उनका बयान आया है और एयरलाइन का कहना है कि वे इसकी जांच कर रहे हैं. बता दें कि कि रैंडी फेसबुक के फाउंडर्स में शामिल रही हैं, एक समय वे कंपनी से जुड़ी हुई थीं.

यह घटना उस वक्त हुई है जब रैंडी लॉस एंजिलस से मैक्सिको जा रही थीं, सिएटल स्थित इस एयरलाइन को रैंडी ने एक लेटर लिखकर इस पूरी घटना की शिकायत की है. इस शिकायत में उन्होंने लिखा कि उनके बगल में बैठा एक शख्स काफी अजीब हरकतें करने लगा और उन्हें असहज महसूस कराने लगा. उन्होंने आगे लिखा कि वो आदमी महिलाओं से जुड़े बेहद भद्दे कमेंट्स कर रहा था जिससे स्थिति और असहज बनती जा रही थी. बावजूद इसके उसे रोका नहीं गया बल्कि फर्स्ट क्लास में उसे लगातार शराब परोसा जा रहा था.

वे आगे लिखती हैं कि वो आदमी खुद को महसूस करने की बातें कर रहा था और पूछ रहा कि क्या रैंडी साथ में सफर करने वालों के साथ खुद को कभी किसी तरह की किसी कल्पना में रखा है. आरोपी व्यक्ति विमान में सवार हो रही महिलाओं की शारीरिक बनावट पर भी लगातार भद्दे कमेंट्स कर रहा था. जब रैंडी ने इसकी शिकायत विमान कर्मचारियों से की तब उन्होंने माहौल हल्का करते हुए कहा कि वो व्यक्ति उनका पर्मानेंट कस्टमर है.

Read More on Foreign News: पाकिस्तान के पेशावर में आतंकी हमला, 9 की मौत 30 छात्र घायल

रैंडी का कहना है कि आरोपी को तमीज़ से पेश आने की जगह फ्लाइट अटेंडेंट्स ने रैंडी को प्लेन के पीछ की किसी सीट पर बैठ जाने को कहा. रैंडी ने ऐसा ही करने का मन बनाया लेकिन बाद में उन्हें लगा कि जब उनकी गलती नहीं है तब उन्हें अपनी सीट क्यों छोड़नी चाहिए. उनका कहना था कि छेड़खानी उनके साथ हो रही है, जिसका मतलब ये था कि कार्रवाई उनके साथ नहीं होनी चाहिए बल्कि उसके साथ होनी चाहिए जो गलत है.