फ्लैश बैकः सिनेमा और सियासत की सुपरहिट अदाकारा जया प्रदा

नई दिल्ली (प्रवीण कुमार): अभिनेत्री जया प्रदा का जन्म 3 अप्रैल 1962 को आंध्रप्रदेश के एक छोटे से गांव राजमुंदरी के एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था. उनकी मां का नाम नीलावणी और पिता का नाम कृष्णा था. उनके पिता तेलगू फिल्मों के फाइनेंशर थे. माता-पिता ने छोटी सी उम्र में ही जया प्रदा का दाखिला संगीत और नृत्य कक्षाओं में करा दिया था. जया प्रदा के फिल्मी करियर की शुरुआत एक तीन मिनट के छोटे से रोल से हुई, जिसके लिए उन्हें मेहनताने के रूप में 10 रुपए मिले थे. लेकिन अभिनेत्री के तौर पर जया ने 1976 में अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की. इसके बाद उनके पास फिल्म प्रस्तावों की बाढ़ आ गई. 1977 में जया प्रदा के फिल्मी करियर की एक महत्वपूर्ण फिल्म आई, आदावी रामाडु, जिसने टिकट खिड़की पर नए कीर्तिमान स्थापित किए. इस फिल्म में उन्होंने अभिनेता एनटी रामाराव के साथ काम किया और शोहरत की बुलंदियों पर जा पहुंचीं. कम लोगों को ही पता होगा कि जया प्रदा का असली नाम ललिता रानी है.
जया प्रदा 1980 से 1990 के दशक की मशहूर फिल्म अदाकारा और राजनीतिज्ञ हैं. उन्होंने अपने अभिनय के जरिए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया. वे बॉलीवुड की उन गिनी-चुनी अभिनेत्रियों में शुमार हैं, जिनमें सौंदर्य और अभिनय का अनूठा मेल है. जया प्रदा ने हिंदी फिल्मों के अलावा तमिल, कन्नड़, मलयालम, बांग्ला और मराठी भाषा की फिल्मों में भी काम किया है. जया प्रदा ने भले ही अपनी एक्टिंग करियर की शुरुआत तेलगू फिल्मों से की, लेकिन उन्हें असली पहचान बॉलीवुड में आकर ही मिली. हिंदी फिल्मों में सफल होने के बावजूद जयाप्रदा दक्षिण भारतीय सिनेमा से भी जुड़ी रहीं. तीन दशक लंबे करियर में जयाप्रदा ने लगभग 200 फिल्मों में काम किया.


अदाकारी के मामले में जया प्रदा ने अपने समय में चोटी की अभिनेत्री थीं. अपने चेहरे के तेज, ममता, भावना और अभिनय के बेजोड़ मेल से वो दर्शकों की पसंदीदा अभिनेत्री बन गईं. हिंदी फिल्मों में जया की जोड़ी सबसे ज्यादा जितेंद्र के साथ देखी गई. लोगों ने जया—जितेंद्र की जोड़ी इस जोड़ी को इतना पसंद किया कि इन दोनों ने एक के बाद एक कई फिल्मों में काम किया. इनमें, मकसद, औलाद, संजोग, मवाली, तोहफा, मजाल, हैसियत, लोक परलोक, सपनों का मंदिर, खलनायिका, हक़ीक़त, होशियार, पताल भैरवी, मां, मजबूर, टक्कर, मेरा साथी, सिंदूर और पापी देवता आदि फिल्में शामिल हैं. जितेंद्र के अलावा जया प्रदा ने अपने फिल्मी करियर में उस समय के लगभग सभी सुपरस्टार्स जैसे धर्मेंद, अमिताभ बच्चन, राजेश खन्ना और मिथुन के साथ काम किया है.
1986 में जया प्रदा ने फिल्म निर्माता श्रीकांत नाहटा से शादी की. जया श्रीकांत की दूसरी पत्नी थीं. इससे पहले श्रीकांत ने चंद्रा के साथ शादी की थी, जिससे उनके तीन बच्चे भी हैं. श्रीकांत और जयाप्रदा की शादी से काफी विवाद भी खड़ा हुआ, क्योंकि उन्होंने अपनी पहली पत्नी को तलाक दिए बिना जया से शादी की थी और जया से शादी के बाद भी उनकी पहली पत्नी से श्रीकांत को बच्चे हुए. जया प्रदा और श्रीकांत के कोई बच्चे नहीं हैं.
फिल्मों के साथ-साथ राजनीति में भी जया प्रदा ने खूब नाम कमाया है. जया प्रदा के राजनीतिक करियर की शुरुआत साल 1994 में तेलगू देशम पार्टी से हुई थी. उन्हें पार्टी के संस्थापक एनटी रामाराव ने पार्टी में आने को कहा था. लेकिन इसके कुछ दिनों बाद ही वो एनटी रामाराव से नाता तोड़ कर चंद्रबाबू नायडू के गुट में शामिल हो गईं. 1996 में जया प्रदा को आंध्रप्रदेश से राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया. कुछ दिनों बाद ही चंद्रबाबू नायडू से भी उनका मतभेद हो गया, जिसके कारण जया ने तेदेपा को छोड़कर समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया. जया प्रदा की लोकप्रियता इतनी थी कि आंध्रपदेश से आकर उन्होंने सीधे उत्तर प्रदेश के रामपुर से 2004 का लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की. 2004 से 2014 तक वे रामपुर से सांसद रहीं. लेकिन सियासत में जया प्रदा को विरोध के गंदे स्वरूप का भी सामना करना पड़ा. फेक न्यूड पोस्टर बनाकर उन्हें बदनाम करने तक की कोशिशें की गईं.