हाफिज सईद का जमात-उद-दावा पाकिस्तान में भी आतंकी संगठन घोषित


हाफिज सईद को बड़ा झटका देते हुए पाकिस्तान सरकार ने उसके संगठन जमात-उद-दावा को आतंकी संगठन घोषित कर दिया है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) द्वारा प्रतिबंधित व्यक्तियों और लश्कर-ए-तैयबा, अल-कायदा तथा तालिबान जैसे संगठनों पर लगाम लगाने के उद्देश्य से पाकिस्तान ने ऐसा कदम उठाया है. पाकिस्तानी राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने इससे जुड़े अध्यादेश पर हस्ताक्षर कर दिया है.

यूएनएससी द्वारा प्रतिबंधित संगठनों की सूची में अल-कायदा, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, लश्कर-ए-झांगवी, जमात-उद-दावा, फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ), लश्कर-ए-तैयबा आदि शामिल हैं. पूरी तरह से आतंकी संगठन घोषित करने से पहले, पिछले वर्ष दिसम्बर में पाकिस्तान ने हाफिज सईद से संबंधित दो संगठनों जमात-उद-दावा और एफआईएफ पर नियंत्रण की योजना बनाई थी. पाकिस्तान ने अब तक जमात उद दावा जैसे संगठनों को केवल आतंकी सूची में ही रखा था. कार्रवाई के तौर पर कभी-कभी उनके चंदों पर प्रतिबंध लगा दिया जाता था.

कुछ दिन बाद ही पेरिस में फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक होने वाली है, जिसमें मनी लॉन्डरिंग जैसे मामलों को लेकर अलग-अलग देशों की निगरानी होगी. पाकिस्तान इसमें अपनी फजीहत से बचना चाहता है. इसीलिए अध्यादेश के जरिए ऐसे संगठनों को आतंकी संगठन घोषित किया गया है. हालांकि विशेषज्ञ इसे आंख में धूल झोंकने की पाकिस्तानी कोशिश भी बता रहे हैं. ऐसे अध्यादेशों की अपनी समय सीमा होती है, ये कुछ समय बाद लैप्स कर सकते हैं.