जानवरों के इस हिस्से से बनती है कैप्सूल वाली दवाइयां

Share Article

capsules

तबीयत ख़राब होने पर डॉक्टर की सलाह पर दवाई का सेवन करना बीमारी को दूर करने में काफी मददगार होता है. लेकिन आज हम बात करें दवाई के रूप में खाए जाने वाले कैप्सूल की तो यह आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है. जी हां, आज हम कैप्सूल के उस हिस्से के बारे में बताएंगे, जिसका सेवन आपके लिए बड़ी परेशानी की वजह भी बन सकती है.

कभी अपने सोचा है कि कैप्सूल का ऊपरी हिस्सा किस चीज से बना होता है. अमूमन ज्यादातर लोग ये सोचते हैं कि कैप्सूल का ऊपरी हिस्सा प्लास्टिक से बना होता है. लेकिन, ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. कैप्सूल का ऊपरी हिस्सा जिस चीज से बना होता हो वो जानकर आपमें से कई लोग आज ही कैप्सूल खाना ही छोड़ देंगे.

ये भी पढ़ें: जानलेवा साबित हो सकता है फ्रिज का ठंडा पानी, आज ही कर लें तौबा

बता दें कि ज्यादातर दवा निर्माता दवा के लेबल पर इस बात की पुष्टि नहीं करते हैं कि कैप्सूल का ऊपरी हिस्सा किस चीज से बना है. तो आज हम आपको बता दें कि कैप्सूर का ऊपरी हिस्सा जिलेटिन से बना होता है.

अब सवाल यह उठता है कि जिलेटिन क्या है? तो बता दें कि जिलेटिन एक पशु उत्पाद (गैर-शाकाहारी) है और यह कोलेजन से बना होता है. यह एक रेशेदार पदार्थ होता है जो गायों और भैंसों जैसे जानवरों की हड्डियों, उपास्थि और कण्डरा में पाये जाते हैं. जिनको उबालकर जिलेटिन निकाला जाता है. साथ ही जिलेटिन का एक अन्य उपयोग जेली बनाने में भी होता है.

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *