प्रधानमंत्री का इंडोनेशिया दौरा, रामायण-महाभारत थीम पर बनी पतंग उड़ाई


5 दिवसीय दौरे के पहले चरण में इंडोनेशिया पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्रपति जोको विदोदो के साथ डेलिगेशन स्तर की बातचीत में हिस्सा लिया. इस दौरान दोनों देशों के बीच शिक्षा, प्रौद्योगिकी, समुद्री सुरक्षा, कारोबार, रेलवे, स्वास्थ्य और निवेश समेत 15 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए. इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति विदोदो ने जकार्ता में एक पतंग प्रदर्शनी में हिस्सा लिया, जहां दोनों ने रामायण-महाभारत थीम पर बनी पतंग उड़ाईं. प्रधानमंत्री मोदी ने विदोदो के साथ दक्षिण-पूर्व एशिया की सबसे बड़ी मस्जिद इस्तिकलाल मस्जिद का भी दौरा किया. इससे पहले, पहले आधिकारिक दौरे पर इंडोनेशिया पहुंचे मोदी का यहां के राष्ट्रपति महल मर्डेका पैलेस में बेहतरीन स्वागत हुआ.

मोदी का सेंट्रल जकार्ता में बनी महाभारत के अहम किरदार अर्जुन की मूर्ति को देखने का भी कार्यक्रम है. गौरतलब है कि इंडोनेशिया दक्षिण पूर्व के उन देशों में शामिल है, जहां रामायण और महाभारत ग्रंथ की बहुत ही प्रसिद्धि है. यह कारण भी है कि दोनों देशों के काफी पुराने संबंध हैं. भारत और इंडोनेशिया के बीच रणनीतिक साझेदारी की शुरुआत 2005 में हुई थी. वहां करीब एक लाख भारतीय रहते हैं. प्रधानमंत्री मोदी इन्हें संबोधित करने वाले हैं. 2025 तक दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 50 बिलियन डॉलर करने का लक्ष्य है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा भी है कि भारत और आसियान देशों की साझेदारी सिर्फ भारत-प्रशांत क्षेत्र ही नहीं, बल्कि इससे आगे भी शांति की गारंटी बन सकती है.

मोदी तीन देशों की यात्रा पर हैं और इंडोनेशिया में दो दिन रुकने के बाद वे मलेशिया और सिंगापुर जाएंगे. मलेशिया के साथ भारत के राजनयिक रिश्ते की शुरुआत 71 साल पहले हुई थी. अभी दोनों देशों के बीच करीब 1 लाख करोड़ रुपए का कारोबार होता है और वहां 20 लाख से ज्यादा भारतीय रहते हैं. मोदी गुरुवार को वहां कुछ घंटे ही रहेंगे. वहीं सिंगापुर में 8 लाख भारतीय रहते हैं तथा वहां 8 हजार भारतीय कंपनियां रजिस्टर्ड हैं. दोनों देशों के बीच अभी करीब 1.2 लाख करोड़ का सालाना कारोबार होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *