बॉक्स ऑफिसः  वीरे दी वेडिंग और परमाणु रही हिट

नई दिल्ली (प्रवीण कुमार):  करीना कपूर, सोनम कपूर, स्वारा भास्कर और शिखा तलसानिया की फिल्म वीरे दी वेडिंग ने बॉक्स ऑफिस पर पहले दिन से ही दर्शकों का खूब मनोरंजन किया. दर्शकों को इन चारों अभिनेत्रियों का अभिनय खूब पसंद आया, खासतौर पर स्वरा भास्कर द्वारा किया गए अभिनय ने दर्शकों का काफी मनोरंजन किया. वीरे दी वेडिंग एक ड्रामा-कॉमेडी फिल्म है. फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट हो चुकी है और इसने अब तक लगभग 80.23* करोड़ करोड़ का कारोबार कर लिया है. इतना ही नहीं, फिल्म इस साल प्रॉफिट कमाने वाली टॉप-5 की लिस्ट में भी शामिल हो चुकी है. फिल्म का बजट लगभग 35 करोड़ है और  फिल्म का प्रॉफिट भी लगभग 130 प्रतिशत से उपर का हो चुका है.

फिल्म की कहानी चार दोस्तों की है, जो अपनी-अपनी जिंदगी से जूझते हैं और उनके दिल टूटते हैं. बॉलीवुड के लिए यह कोई नया कॉन्सेप्ट नहीं है, लेकिन वीरे दी वेडिंग अलग इसलिए है कि क्योंकि इस फिल्म में ये चार दोस्त लड़कियां हैं. ये चारों लड़कियां अपनी शर्तों पर जीती हैं और निडर और बेबाक होकर बात करती हैं. चारों आपस में सेक्स और ऑर्गज्म की भी बातें करती हैं. वे अपने हालातों पर हंसती हैं. इस तरह की फिल्म को देखना अच्छा लगता है जिसमें महिला किरदारों की प्रगतिशीलता और उनकी जिंदगी की कमियों और समस्याओं को दिखाया गया हो. इन किरदारों को गलतियां करने की छूट है और यही इस फिल्म की खूबसूरती है.

परमाणु द स्टोरी ऑफ पोखरण –  मई 1998 में भारत ने राजस्थान स्थित पोखरण में परमाणु परीक्षण कर विश्व में अपने शक्तिशाली होने का संदेश दिया था और इससे हर भारतीय का सीना चौड़ा हो गया था. मात अमेरिका को भी दी थी जिसके  सैटेलाइट इस घटना को अपने कैमरे में कैद नहीं कर पाए और भारतीयों ने सीआईए की आंखों में धूल झोंक दी.

उस समय यह परीक्षण जरूरी हो गया था, क्योंकि रूस के विघटन के कारण भारत को कमजोर समझा जा रहा था. इस ऐतिहासिक घटना को इंजीनियर्स, सेना के अधिकारियों और वैज्ञानिकों ने खुफिया तरीके से अंजाम दिया था. फिल्म परमाणु: द स्टोरी ऑफ पोखरण में इसी घटना को दर्शाया गया है कि किस तरह से तमाम विपत्तियों से लड़ते हुए इन भारतीयों ने अपने मिशन में सफलता पाई. फिल्म में जॉन इब्राहिम और डायना पेंटी ने मुख्य भूमिका निभाया है. बॉक्स ऑफिस पर यह फिल्म हिट रही. फिल्म का बजट 30 करोड़ का था और बॉक्स ऑफिस पर इसने लगभग 63.68* करोड़ की कमाई की यानि फिल्म को 100 प्रतिशत  से ज्यादा का लाभ हुआ.

 फिल्म परमाणु: द स्टोरी ऑफ पोखरण  एक सत्य घटना पर आधारित है, जिसमें कुछ काल्पनिक पात्र डाल कर इसे दिखाया गया है. आईआईटी से शिक्षा प्राप्त आईएएस ऑफिसर अश्वत रैना (जॉन अब्राहम) पीएमओ में काम करता है और 1995 में वह न्यूक्लियर टेस्ट की बात करता है तो उसकी हंसी उड़ाई जाती है. बाद में उसकी बात मान कर परीक्षण की तैयारियां की जाती है तो अमेरिकी सैटेलाइट इसे पकड़ लेते हैं. उसे नौकरी से हटा दिया जाता है. 1998 में पीएमओ का एक बड़ा ऑफिसर हिमांशु शुक्ला (बोमन ईरानी) उसे फिर इस मिशन के लिए तैयार करता है. वैज्ञानिक, सेना अधिकारी और विशेषज्ञों की एक टीम अश्वत तैयार करता है और इस मिशन को सफलतापूर्वक पूरा करता है. 24 घंटे में दो बार अमेरिकी सैटेलाइट की नजर पोखरण से हट जाती थी जिसे ब्लैंक स्पॉट कहा गया है. अमेरिकियों को ध्यान भटकाने के लिए भारत ने कश्मीर में सैन्य हलचल भी बढ़ा दी थी ताकि ध्यान उधर चला जाए और यह नीति काम कर गई.