कंपनी से निकाले जाने के बाद कर्मचारी ने HR कको गोली से उड़ाया

अब किसी कर्मचारी को उसकी गलती पर नौकरी से निकालना भी ख़तरें से खाली नहीं रहा. ऐसा ही कुछ गुडगाँव की एक कंपनी में हुआ दरसल घटना मितसूबा कंपनी की है जहां नौकरी से निकाले जाने के बाद कर्मचारी इतना नाराज़ हो गया कि उसने अपने एच्आर को गोली मरवाकर उसकी जान लेने कि कोशिश की.

कंपनी ऑटो इलेक्ट्रिकल पार्ट्स और सोलर कार से जुड़े प्रोडक्ट्स बनाती है. मितसूबा कंपनी के एच्आर मैनेजर दिनेश कुमार शर्मा गुडगाँव सेक्टर 43 में रहते हैं. गुरूवार को सुबह दिनेश कुमार शर्मा अपने घर से कार में निकले थे. बिलासपुर- तावड़ू रोड पर बाइक सवार दो युवकों ने उन्हें रुकने का इशारा किया।

दिनेश कुमार शर्मा ने कार भगानी चाही लेकिन स्पीड ब्रेकर के चलते उन्हें अपनी कार की स्पीड धीमी करनी पड़ी. तभी बदमाशों ने उनके बगल में आकर उन पर गोली चला दी.गोली पीछे वाले शीशे को तोड़ते हुए मैनेजर की गर्दन के नीचे लगी. गोली मारते ही बाइक सवार वहां से फरार हो गए.

इत्तेफाक से उसी कंपनी में काम करने वाले सुरेंद्र वहां से गुज़र रहे थे. उन्होंने दिनेश कुमार शर्मा को मानेसर के रॉकलैंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया। ये कोई नई घटना नहीं थी इस से पहले भी कुछ कंपनियों में ऐसी ही कुछ हिंसा हुई थी. 18 जुलाई 2012 मारुति सुजुकी के मानेसर प्लांट में हड़ताल के दौरान हिंसा में मैनेजमेंट के करीब 98 लोग घायल हुए थे, जबकि कंपनी के जनरल मैनेजर अवनीश देव की ज़िंदा जल जाने से मौत हो गयी थी. ऐसा भी सुनने में आया था कि यहां की ओरियंट क्राफ्ट कंपनी में भी हिंसा हो चुकी है.