आतंक का दूसरा नाम था राजेश भारती, एनकाउंटर के बाद शव लेने से परिजनों ने किया इंकार

gangster-rajesh-bharti-encounter-in-delhi

11 साल की उम्र में जुर्म की दुनिया में कदम रखने वाले गैंगस्टर राजेश भारती को पुलिस ने शनिवार को हुई एक मुठभेड़ में मार गिराया है. चौंकाने वाली बात यह है कि राजेश भारती के परिजनों ने उसका शव लेने से इंकार कर दिया है. राजेश भारती के शव को लेने से इंकार के बाद अब तक उसका शव मॉर्चरी में रखा हुआ है. जानकारी के मुताबिक़ गैंगस्टर के परिजन और उसके रिश्तेदार उससे इतना ज्यादा तंग आ गए थे कि कोई उसका शव नहीं लेना चाहता है.

Read Also: असम: बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने दो युवकों को उतारा मौत के घाट

गैंगस्टर के मारे जाने के बार पुलिस लगातार उसके परिजनों से सम्पर्क साधने की कोशिश कर चुकी है लेकिन उन्हें अब तक ऐसा कोई भी नहीं मिला जिसने शव को लेने के लिए हामी भरी हो. हर कोई बस यही कह रहा है कि राजेश से उनका कोई लेना देना नहीं था. परिजनों के इंकार के बाद अब पुलिस टीम हरियाणा के जींद जिले में उसके गांव के लोगों से संपर्क कर अंतिम संस्कार कराए जाने की कोशिश में जुटी है।

Read Also: नोएडा के जीआइपी मॉल के पास 20 लाख रुपये की लूट

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि शनिवार को हुए एनकाउंटर में ढेर हुए चारों अपराधियों की आज अटॉप्सी करवाई जाएगी। यह काम मैजिस्ट्रेट के सामने होगा। रविवार को हरियाणा सीआईडी भी शवगृह पहुंची थी। एनकाउंटर में घायल हुए गैंगस्टर कपिल की हालत स्थिर बताई जा रही है, उसका इलाज एम्स में चल रहा है। उसके गांव के सरपंच वेदपाल रविवार को उसका हाल-चाल जानने रविवार को एम्स पहुंचे थे।