इस ग़ज़ल गायक की मुरीद थीं लता मंगेशकर

gazal singer mehndi hasan

राजस्थान के झुंझुनूं जिले के लूणा गांव में 18 जुलाई 1927 को जन्में मेहदी हसन का परिवार संगीतकारों का परिवार रहा है। मेहदी हसन के मुताबिक कलावंत घराने में वे उनसे पहले की 15 पीढ़ियां भी संगीत से ही जुड़ी हुई थीं। संगीत की शिक्षा उन्होंने अपने पिता उस्ताद अज़ीम खान और चाचा उस्ताद ईस्माइल खान से ली. भारत-पाक बंटवारे के बाद उनका परिवार पाकिस्तान चला गया। वहां उन्होंने कुछ दिनों तक एक साइकिल कि दुकान में काम किया  और बाद में मोटर मेकैनिक का भी काम उन्होंने किया। लेकिन संगीत को लेकर जो जुनून उनके मन में था, वह कभी  कम नहीं हुआ।

वे इस दौरान भी रोज़ाना रियाज़ किया करते थे. मेहदी हसन साहब ने छोटी सी उम्र में स्टेज पर परफॉर्म करना शुरू कर दिया था. वक्त ने करवट बदली और मेहदी हसन को पाकिस्तान रेडियो पर गाने का मौका मिला. शुरुआती दिनों मे वे रेडियो पर ठुमरी गाया करते थे जिसके बूते कई संगीत घरानों में उनकी पहचान बनी. मेहदी हसन साहब को उर्दू में कविताएं लिखने का शौक था और धीरे-धीरे उन्होंने गजल गाना शुरू किया. हसन की गाई ‘अब के बिछड़े’ और ‘पत्ता पत्ता बूटा बूटा’ गजलें काफी लोकप्रिय रहीं.

उसके बाद मेहदी हसन ने मुड़ कर नहीं देखा. फिर तो फिल्मी गीतों और गजलों की दुनिया में वो छा गये। मशहूर गायिका लता मंगेशकर उनकी मुरीद थीं. लता ने उनके बारे में एक बार कहा था कि ‘ऐसा लगता है कि मेहदी हसन साहब के गले में भगवान बोलते हैं.’

दरसल 1957 से 1999 तक सक्रिय रहे मेहदी हसन ने गले के कैंसर के बाद पिछले 12 सालों से गाना लगभग छोड़ दिया था। उनकी अंतिम रिकार्डिंग 2010 में सरहदें नाम से आयी, जिसमें फ़रहत शहज़ाद की लिखी “तेरा मिलना बहुत अच्छा लगे है” की रिकार्डिंग उन्होंने 2009 में पाकिस्तान में की और उस ट्रेक को सुनकर 2010 में लता मंगेशकर ने अपनी रिकार्डिंग मुंबई में की. इस तरह यह युगल अलबम तैयार हुआ। गंभीर बीमारी की वजह से 80 के दशक में मेहदी हसन ने गाना छोड़ दिया. बाद में उन्होंने संगीत से रिश्ता तोड़ लिया.13 जून, 2012 में बीमारी के चलते उनका निधन हो गया. आज भी जब ग़ज़लों का ज़िक्र होता है मेहदी हसन साहब को ज़रूर याद किया जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *