मध्य प्रदेश: 22 साल बाद मिली बेड़ियों और अंधेरे से आजादी

 

मध्य प्रदेश के छतरपुर के एक गांव में मानसिक बीमारी से ग्रस्त एक व्यक्ति को परिजनों ने 22 साल से एक खूंटे से बांधकर कमरे में कैद कर रखा था. पीड़ित का नाम बैजनाथ यादव है. जिला मुख्यालय से 55 किलोमीटर दूर स्थित हरपुरा गौर गांव में 58 वर्षीय बैजनाथ यादव को खेत में बने एक छोटे से कमरे में जंजीरों से बांधकर अंधेरे में रखा गया था.

छतरपुर के कलेक्टर रमेश भंडारी ने कहा है कि जांच के लिए इलाके के तहसीलदार एवं ईशानगर पुलिस थाने की टीम भेजी गई थी. पीड़ित को मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती कराने के लिए डॉक्टर का प्रमाणपत्र चाहिए. शनिवार तक प्रमाणपत्र बन जाएगा और उसके बाद उसे ग्वालियर की मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती करा दिया जाएगा.

दरअसल, इस बात का खुलासा तब हुआ जब बैजनाथ के बेटे ने पटवारी श्यामलाल अहिरवार से अपने पिता के नाम की जमीन खुद के नाम पर कराने के लिए संपर्क किया था. पटवारी ने पिता की सहमति जरूरी बताई. इस पर देवीलाल ने पिता की स्थिति बताई. इसके बाद पटवारी ने बैजनाथ को एक कमरे में जंजीर से बंधा पाया.

पटवारी ने बताया कि उसके परिवार वालों ने उसे करीब 22 साल से लोहे के खूंटे से बांधकर रखा हुआ है. ‘जब मैं खूंटे से बंधे बैजनाथ के पास गया, तो वह हाथ जोड़कर विनती करने लगा कि इस अंधेरे से बचा लो और इन जंजीरों से छुड़वा दो.’

पटवारी ने यह बात छतरपुर तहसीलदार आलोक वर्मा को बताई. तहसीलदार ने 27 साल से मनोरोगियों के लिए काम कर रहे वकील संजय शर्मा को इसकी जानकारी दी. इसके बाद शर्मा उसे छुड़ाने एवं मानसिक आरोग्यशाला में भर्ती कराने के लिए 21 जुलाई को उसके घर गए.

संजय शर्मा के मुताबिक, ‘हमने उसके परिजनों से उसे बेड़ियों से मुक्त करने को कहा, लेकिन बेटे देवीदीन ने यह कहकर उसे मुक्त करने से इनकार कर दिया कि यदि पिताजी को खुला रखा गया तो वे फिर लोगों को मारने लगेंगे. वे 10-12 लोगों के पकड़ने में भी नहीं आते हैं.’

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *