UP: सुल्तानपुर में बेख़ौफ़ बदमाशों ने बीजेपी नेता को मारी गोली

one-arrested-for-trying-to-murder-bjp-leader

उत्तर प्रदेश में अपराध किस हद तक बढ़ गया है इस बात का नमूना रविवार देर रात में सुल्तानपुर में देखने को मिला जब अवंतिका फूड माल के मालिक व भाजपा कार्यसमिति सदस्य आलोक आर्या को बदमाशों को मारी दी। ट्रामा सेंटर में उनका इलाज चल रहा है। डीआईजी फैजाबाद परिक्षेत्र ओंकार सिंह ने सोमवार को घटना का खुलासा करते हुए कहा कि इस जघन्य काण्ड में एक बदमाश को गिरफ्तार कर लिया गया है। दो की तलाश जारी है।

रविवार की देर रात अवंतिका फूड मॉल के मालिक आर्या को बदमाशों ने उस वक्त गोली मारी थी, जब वे कैश काउंटर पर बैठकर लेनदेन कर रहे थे। मॉल में ग्राहकों की भीड़ थी। दुस्साहस का परिचय देते हुए बिना किसी बातचीत के काउंटर पर पहुंचकर गोली सीधे उनके सीने में मारी। जब तक लोग कुछ समझ पाते इस बीच गोली मारने वाला बदमाश और उसके दो साथी फायर करते हुए मौके से फरार हो गए। डीआईजी ने बताया कि फूड मॉल में लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से अभियुक्तों की पहचान सौरभ सिंह उर्फ छोटू निवासी उमरी थाना अखण्डनगर, रमन सिंह निवासी बहाउद्दीनपुर थाना गोसांईगंज तथा सत्यप्रकाश सिंह उर्फ फूफा निवासी अढ़ैती थाना मोतिगरपुर के रूप में हुई है। इसके आधार पर अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

डीआईजी ने बताया कि रात में ही अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमों का गठन किया गया। एसपी अमित वर्मा के निर्देशन में पुलिस टीमों ने संभावित ठिकानों और मार्गों में जांच और दबिश का काम शुरू किया। इस बीच मुखबिर ने बताया कि घटना में शामिल अभियुक्त सौरभ सिंह उर्फ छोटू घटना में प्रयुक्त वाहन क्वार्पियों से भागने के फिराक में है। इस सूचना के आधार पर कोतवाली नगर एवं क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम द्वारा घेराबंदी कर अभियुक्त सौरभ सिंह उर्फ छोटू निवासी उमरी थाना अखण्डनगर को टेढुई मोड़ पर स्कार्पियों संख्या यूपी 32 एचएस 9977 के साथ सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि फरार दोनों अभियुक्तों की तलाश की जा रही है।

रविवार को अवंतिका फूड मॉल मालिक पर गोली चलाए जाने की घटना से गुस्साए लोगों की भारी भीड़ मॉल पर जमा हो गई, जो रात करीब दो बजे तक पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करती रही। इस बीच जिलाधिकारी विवेक और उनके साथ प्रशासनिक अधिकारी लोगों से गुस्सा शांत करने अपील करते रहे। इस बीच अफवाहों का बाजार भी गर्म था। सोशल मीडिया से पर जब यह खबर फैली की गोली से घायल आर्य ने दम तोड़ दिया तो लोगों के गुस्से का पारा चढ़ गया। हालांकि थोड़ी ही देर बाद अफवाह पर काबू पा लिया गया। आरएसएस और भाजपा के नेता मौके पर जमा रहे। व्यापार मंडल के सभी घटकों के पदाधिकारी मौजूद रहे। इस बीच पुलिस सीसीटीवी को खंगालने में जुटी रही।

खुद एसपी अमित वर्मा अपनी टेक्निकल टीम के साथ घटना के अनावरण के लिए दिशा-निर्देश देते रहे। रात करीब एक बजे जब यह खबर आई कि गोली लगने से घायल आलोक आर्य ट्रामा सेंटर पहुंच गए और उनका जीवन सुरक्षित है। उसके बाद जिलाधिकारी वहां से आवास के लिए निकले। मगर, पुलिस मौके पर सुबह तक डटी रही। दूसरी ओर इस घटना को लेकर बाजार में दहशत का माहौल रहा। सोमवार को ज्यादातर दुकानें बंद रहीं।