थाईलैंड की गुफा में फंसे बच्चों के लिए आने वाले दो दिन हैं बेहद अहम

thailand cave stuck football team

थाईलैंड की एक गुफा में 23 जून से फंसे युवा फुटबॉल टीम के 12 खिलाड़ियों और कोच को निकालने के लिए अनुकूल परिस्थिति बनती नजर आ रही है और अगले 48-72 घंटे काफी अहम रहने वाले हैं। राहत मिशन के चीफ ने शनिवार को बताया कि फिर से बारिश होने और कार्बन डायऑक्साइड का स्तर बढ़ने से पहले ही आने वाले दिनों में बाढ़ग्रस्त गुफा से बच्चों को निकाला जा सकता है। चीफ ने यह बात ऐसे समय में कही है जब मौसम विभाग ने देश में शनिवार से भारी बारिश की चेतावनी दी है। इस बीच बच्चों के सुरक्षित निकलने के लिए दुनिया भर में प्रार्थना हो रही है।

बचाव दल का सराहनीय प्रयास भगवान उसी की मदद करते हैं जो उद्यम व प्रयास करते हैं अतः सतत प्रयास अनिवार्य हैं तभी महत्वपूर्ण जीवन बच सकते हैं. 23 जून को थाम लुआंग गुफा में वाइल्ड बोअर फुटबॉल टीम के 12 खिलाड़ियों और कोच के फंस जाने के बाद से पूरे देश का ध्यान उन्हीं पर टिका हुआ है। राहत टीम के चीफ नारोनगसान ओसोतानकोन ने पत्रकारों से कहा, ‘अब और अगले तीन या चार दिनों में पानी, मौसम और बच्चों के स्वास्थ्य के लिहाज से उन्हें निकालने का उपयुक्त समय है। हम क्या कर सकते हैं इसको लेकर हमें स्पष्ट फैसला लेना है।’

ऑक्सीजन का स्तर जहां स्थिर हो गया है और ओसोतानकोन बताते हैं कि जब उन्हें गुफा से निकाला जाएगा तो कार्बन डायऑक्साइड के स्तर और बारिश पर भी विचार करना होगा। उन्होंने कहा, ‘इलाके में जल का स्तर बढ़ सकता है जहां बच्चे बैठे हैं और इससे इलाका महज 10 वर्ग मीटर का रह जाएगा।’ इससे पहले शनिवार सुबह उन्होंने कहा था कि बच्चे गुफा से बाहर तैर कर निकलने की स्थिति में नहीं है।

इस बीच सुबह नेवी सील ने एक भावुक नोट जारी किया है जिसे गुफा में फंसे बच्चों ने बाहर इंतजार कर रहे अपने पैरंट्स के लिए लिखा है। बच्चों ने पैरंट्स से अपील की है कि वे उनके लिए चिंतित न हों और साथ ही कहा है कि जब वे लौटेंगे तो अपना पसंदीदा भोजन करेंगे।

फंसे बच्चों में से एक का 16वां जन्म था जिसे ग्रुप ने गुफा के भीतर ही मना रहे हैं। उसने अपने परिवार को लिखा, ‘मैं मां, पापा और बहन आप सभी से प्यार करता हूं। आपको मेरे लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है।’

वहीं, 25 साल के कोच ने पत्र लिखकर सभी बच्चों के सुरक्षित होने का आश्वासन दिया। कोच ने पैरंट्स से बच्चों के गुफा में फंसने के लिए माफी भी मांगी। कोच ने अपने पत्र में लिखा कि वह बच्चों की हर संभव देखभाल करेंगे और उन्हें सुरक्षित रखने के लिए सारे उपाय करेंगे।

बता दें कि खराब मौसम और ऑक्सीजन की कमी के कारण रेस्क्यू टीम को ऑपरेशन जारी रखने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। बच्चों को गुफा तक पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए 100 से अधिक चिमनी गुफा में पहुंचाई जा रही है। हालांकि, भारी बारिश और खराब मौसम के कारण चिमनी लोकेशन तक पहुंच नहीं पा रही है।

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *