भंडारा कराने को लेकर आपस में ही भिड़े कांवड़िये, दर्जन घायल

kavadie

इस समय सड़कों पर शिव भक्त कांवड़ियों का मेला देखने को मिल रहा है. इस बार कांवड़ यात्रा से पहले ही प्रशासन ने व्यवस्था की थी. प्रशासन अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा रहा है, लेकिन कांवड़िए आपस में हो रही लडाई की वजह से ही सुरक्षित नहीं हैं.

ग्रेटर नोएडा  के पचायतन गांव से एक ऐसा ही मामला सामने आया है. जहां कांवड़ियों के दो पक्षों का आपस में खूब झगड़ा हुआ, दोनों पक्षो में लाठी डंडे के साथ पथराव भी हुआ. इस खूनी संघर्ष में  दोनों तरफ से करीब एक दर्जन से ज्यादा कांवड़िये घायल हो गए.

पचायतन गांव से पहले सभी लोग कांवड़ियों की एक टोली लेकर जाते थे. लेकिन इस बार कांवड़ ले जाने वालों का दो पक्ष बन गया. कांवड़ियों के दोनों पक्षों के बीच शिवरात्रि के दिन भंडारा कराने को लेकर मारपीट हुई.

कांवड़ियों के एक पक्ष ने भंडारा करने से मना कर दिया था तो दूसरे पक्ष के लोगों ने भंडारा कराने के लिए चंदा जुटाना शुरू कर दिया था. आरोप है कि इसी बीच दूसरे पक्ष के लोग आ गए और उन्होंने मारपीट शुरू कर दी.

कांवड़ की जगह इनके हाथों में रायफल, लाठी, तलवारें थी और ये लोग दूसरे पक्ष को धमकाने लगे. थोड़ी देर बाद दोनों पक्षों में विवाद शुरु हो गया और दोनों तरफ से जमकर लाठी-डंडे चलें और पथराव हुआ. एक पक्ष की तरफ से गोलियां भी चलाई गईं. झगड़े में दोनों तरफ से लगभग एक दर्जन से अधिक लोग घायल हुए है,  जिन्हें पास के निजी अस्पताल और नोएडा के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

ग्रेटर नोएडा के एसपी का कहना है की मामले की जांच की जा रही है और दोनों पक्षों के दो दर्जन से अधिक  कांवड़ियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है. इस मामले में जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.