कैंसर से जूझते हुए माली ने जीता 3.80 करोड़ का मुकदद्मा

gardener won case against pestiside company

सैनफ्रांसिस्को की एक अदालत ने कैंसर से जूझ रहे एक माली के हक़ में फैसला सुनाते हुए बीज और कीटनाशक कंपनी मोन्सेंटो को 29 करोड़ डॉलर (करीब 20 अरब 3 करोड़ 75 लाख 50 हजार रुपये) चुकाने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा है कि कंपनी ने माली को इस बात की चेतावनी नहीं दी थी कि उनके खरपतवार नाशक से कैंसर भी हो सकता है। कोर्ट ने माना कि डिवेन जॉनसन नाम के माली के इस केस में कंपनी का व्यवहार द्वेषपूर्ण था।

कोर्ट ने यह भी कहा कि उनकी खरपतवार नाशक दवा राउंडअप और रेंजरप्रो ने जॉनसन की इस खतरनाक बीमारी में भूमिका रही। 8 हफ्तों तक चले ट्रायल के बाद कोर्ट ने मोन्सेंटो पर 25 करोड़ डॉलर का दंडात्मक हर्जाना लगाया। इसके साथ क्षतिपूर्ति मुआवजा (3 करोड़ 80 लाख डॉलर) और अन्य चीजें जोड़ने के बाद यह रकम 29 करोड़ डॉलर के करीब आ गई है। यानी माली को 3 करोड़ 80 लाख डॉलर का मुआवजा मिलेगा।

कैलिफॉर्निया के माली जॉनसन के शरीर पर 2014 में एक लाल चकत्ता हुआ। पता चला कि यह एक नॉन हॉजकिन लिम्फोमा कैंसर है। यह कैंसर शरीर के लाल रक्त कणों पर असर डालता है। जॉनसन ने कैलिफॉर्निया के एक स्कूल में काम करने के दौरान मोन्सेंटो के केमिकल का काफी इस्तेमाल किया था।

मुकदमा जीतने के बाद 46 साल के जॉनसन ने कहा कि वह जूरी के सारे सदस्यों का तहे दिल से शुक्रिया अदा करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई का उद्देश्य काफी बड़ा है और उन्हें उम्मीद है कि अब इसपर सबकी नजर जाएगी। इस मामले में फैसला सुनाने के दौरान जॉनसन अपनी भावनाओं पर काबू नहीं रख पाए और रो पड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *