राजनीतिक सफर शुरु करने जा रही हैं तीन तलाक पर आवाज उठाने वाली निदा खान

तीन तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम महिलाओं के हक की आवाज बुलंद करने वाली दो महिलाएं उत्तराखंड से सियासी पारी शुरू कर सकती हैं. ऊधमसिंह नगर जिले की सायरा बानो के बाद अब बरेली (उप्र) की निदा खान ने भी भाजपा में शामिल होने की इच्छा जताई है. इस कड़ी में निदा ने देहरादून पहुंचकर महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रेखा आर्य से मुलाकात की. उनकी इच्छा के बारे में भाजपा के प्रांतीय और राष्ट्रीय नेतृत्व को अवगत करा दिया गया है. बताया गया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से विमर्श के बाद उचित समय पर दोनों महिलाओं को भाजपा में शामिल किया जाएगा.

24 साल की निदा खान कुछ दिनों पहले ही सुर्खियों में तब आईं, जब दरगाह आला हजरत ने उनके खिलाफ सामाजिक बहिष्कार का फतवा जारी किया था. तीन तलाक पीड़िता निदा खान खुद तीन तलाक और निकाह हलाला पीड़ितों के लिए एक एनजीओ चलाती हैं.

निदा से जब उनके बीजेपी में शामिल होने को लेकर पूछा गया, तो उन्होंने कहा, ‘मैं तीन तलाक, निकाह हलाला और बहुविवाह के खिलाफ लड़ रही हूं. मैंने जिले में यह महसूस किया कि यहां पर हर दूसरे परिवार में पीड़िता हैं. मुझे यकीन है कि बीजेपी जॉइन करने के बाद मैं इस मुद्दे को राष्ट्रीय स्तर पर उठा सकूंगी और पीड़िताओं को न्याय दिलाने के लिए लड़ सकूंगी. पार्टी ने मुझे अभी मुझे यह नहीं बताया कि मेरी जॉइनिंग कब और कहां होगी.’

वहीं, राज्यमंत्री रेखा आर्य के मुताबिक, मुलाकात के दौरान निदा खान ने फोटो खिंचवाने का आग्रह किया, तो उन्होंने सुझाव दिया कि वे बुर्का प्रथा के खिलाफ भी लड़ाई लड़ें. इसके बाद ही वे उनके साथ फोटो खिंचवाएंगी. राज्यमंत्री ने बताया कि निदा खान ने उनके इस सुझाव को मान लिया है, जिससे तय माना जा रहा है कि भाजपा में शामिल होने के बाद निदा खान बुर्का प्रथा के खिलाफ भी आवाज उठाएंगी.