चाणक्य नीति: जिनकी जेब में होते हैं पैसे उन्हीं को मिलती है ये चार चीजें

चाणक्य नीति, जिसके बारे में शायद ही ऐसा कोई होगा जो नहीं जानता होगा. अर्श से लेकर फर्श तक हर कोई उनके नाम से अवगत है. चाणक्य ने अपने जीवने के अनुभवों के माध्यम से पाया कि जिन लोगों के पास पैसा होता है केवल उन्हीं लोगों के नसीब में ये चार चीजे होती है. आइए जानते है ऐसी कौन सी चार चीजे है जिनका उल्लेख चाणक्य ने किया है.

  1. इसी वजह से होते है मित्र

यस्यार्था: तस्य मित्राणि यस्यार्थास्तस्य बान्धवा:!

यस्यार्था: स पुमांल्लोके यस्यार्था: स च पण्डित:!!

आचार्य चाण्क्य के ये शलोक आज के इस दौर में बिल्कुल सटीक बैठती है. आज के इस दौर में आप देख सकते, जिनके पास धन होता है उनके अनेकों मित्र होते है और ठीक इसके विपरीत जिनके पास धन नहीं होता उनके पास कोई मित्र नहीं होता है.

  1. बिल्कुल फिट है ये तो

चाणक्य नीति में साफतौर पर इस बात को कहा गया है कि जिसके पास धन होता है, केवल उसी के पास रिश्तेदार जाना पसंद करते है. कुल मिलाकर कह सकते है कि रिश्तेदार उन्हीं के होते है जिनके पास पैसा होता है और चाणक्य नीति का ये समीकरण आज के इस दौर में बिल्कुल सटीक बैठ रहा है.

  1. इन्हीं को पहले चुना जाता है.

चाणक्य नीति के अनुसार जिनके पास पैसा होता है. ये समाज केवल उन्हें ही ज्यादा तरजीह देता है. साथ में उसी को ज्यादा चुनता है.

  1. इन्ही के पास होता है पैसा

चाण्क्य नीति के अनुसार अगर आपके पास है, तो आप पंडित है क्योंकि चाणक्या नीति के अनुसार इंसान को पैसा ही बुद्धिमान बनाता है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *