गोविंदा और डेविड धवन में इस वजह से बन गई थी दूरियां

नई दिल्ली (प्रवीण कुमार) : काफी समय बाद गोविंदा बॉक्स ऑफिस पर दर्शकों को हंसाने के लिए अपनी कॉमेडी फिल्म फ्राइडे (Fryday) लेकर आ रहे हैं. जिसमें उनका साथ फिल्म फुकरे के हास्य कलाकार वरूण शर्मा देते दिखाई देंगे. यह फिल्म 12 अक्टूबर को देशभर में रिलीज होगी. गोविंदा आखिरी बार दिपांकर सेनापति की फिल्म आ गया हीरो में दिखाई दिए थे. यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से पिट गई थी. लेकिन गोविंदा को पूरी आशा है कि उनकी आने वाली फिल्म Fryday बॉक्स ऑफिस पर सफलता के झंडे जरूर गाड़ेगी.

गोविंदा की अगर पुरानी यादों को ताजा किया जाए तो गोविंदा और फिल्म निर्देशक डेविड धवन की जोड़ी ने 90 के दशक में एक के बाद एक लगभग 15 हिट फिल्में दी थीं. लेकिन, अब गोविंदा डेविड धवन के साथ काम करने को लेकर काफी कन्फ्यूजन में हैं. उन्हें नहीं लगता कि वे अब कभी आगे डेविड के साथ काम करेंगे. गोविंदा ने अपनी आने वाली फिल्म ऋीूऊरू के प्रमोशन के सिलसिले में डेविड के साथ काम करने को लेकर पूछे गए सवाल पर कुछ ऐसा ही जवाब दिया.

गोविंदा ने बताया, उन्होंने एक फिल्म के सिलसिले में धवन से संपर्क किया था, लेकिन उनके नकारात्मक जवाब से उन्हें काफी दुख पहुंचा. इसी के चलते उन्होंने डेविड के साथ काम करने के सवाल पर प्रतिक्रिया दी, मुझे आशंका है कि अब मैं कभी डेविड धवन के साथ काम कर पाऊंगा. कारण यह है कि उन्होंने एक फिल्म बनाई, जिसका नाम है चश्मे बद्दूर. मैंने उन्हें इसका विषय सुनाया था, लेकिन उन्होंने किसी और के साथ फिल्म बनानी शुरू कर दी.

एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, जब गोविंदा के सेक्रेटरी ने उन्हें एक फिल्म की पेशकश की, जिस पर डेविड ने बड़ा रुखा जवाब देते हुए कहा, गोविंदा से कहो कि उसने बहुत सवाल करना शुरू कर दिया है. फिल्म में चाहे उसे जो भूमिका दी जा रही हो, उसे बस वही करना चाहिए. इससे मैं बहुत आहत हुआ. यकीनन उनका बेटा भी उनसे सवाल करता होगा. शायद उन्होंने यह कभी नहीं उम्मीद की होगी कि एक दिन मैं इस मुकाम पर पहुंचुंगा या मैं आगे बढूंगा या फिर सांसद बनने के बाद मैं फिल्मों में वापसी करूंगा. मैंने धवन को यह सूचित करने के लिए फोन किया था कि अगर वे वर्ष 2010 तक साथ काम नहीं करते हैं तो वे उनके साथ कभी काम नहीं करेंगे. अब मैं भी डेविड धवन का फोन नहीं उठाता हूं.

गोविंदा ने कहा, उन्होंने मुझे बड़े हल्के में लिया. वर्ष 2009 के आखिर में मैं और मेरी पत्नी किसी कार्यक्रम में थे, तब मेरी पत्नी ने मुझे बताया कि डेविड का फोन आ रहा है. मैंने अपनी पत्नी से यही कहा, अब मैं डेविड के पास नहीं जाऊंगा. मैंने उनके साथ काफी सफलता देखी है और मेरा मानना है कि उन सफलताओं के लिए हमें हमेशा ईश्वर का आभारी होना चाहिए.

गोविंदा ने कहा कि उन्होंने कभी-भी धवन की सफलता के लिए श्रेय नहीं लिया बल्कि यही माना कि दोनों ने एक-दूसरे के करियर में योगदान दिया है. उन्होंने कहा, यह श्रेय लेने या अपमानित करने के बारे में नहीं है. यहां एक मौलिक प्रणाली है और किसी को भी इसका अनादर नहीं करना चाहिए. मैं इस फिल्म उद्योग में 23 नए निर्देशकों को लाया और वे भी उनमें से एक हैं. यह कोई गर्व का मुद्दा नहीं है, लेकिन मेरा मानना है कि यह वक्त है जो आपको सफल बनाता है और मैं इस तथ्य का बहुत सम्मान करता हूं. अभिनेता ने कहा कि वे धवन के साथ तभी काम करेंगे जब वे उन्हें किसी फिल्म की पेशकश करेंगे. उन्होंने कहा कि मेरे परिवार में हर कोई चाहता है कि हम दोनों साथ आएं, मगर मुझे लगता है कि अब आगे बढ़ने का सही समय आ गया है. गोविंदा अब 12 अक्टूबर को अपनी फिल्म ऋीूऊरू लेकर आ रहे हैं. जो एक कॉमेडी फिल्म होगी.

बता दें कि धवन ने साल 1989 में फिल्म ताकतवर से निर्देशन की दुनिया में कदम रखा था. इस फिल्म में गोविंदा ही हीरो थे. निर्देशक-अभिनेता की इस जोड़ी ने शोला और शबनम, स्वर्ग, आंखे, हीरो नंबर-1, कुली नंबर-1, दूल्हे राजा, साजन चले ससुराल, बड़े मियां छोटे मियां, पार्टनर, जोड़ी नं. वन, एक और ग्यारह, हसीना मान जाएगी, दीवाना मस्ताना, राजा बाबू जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्में दीं. वर्ष 2007 में आई पार्टनर इस जोड़ी की आखिरी फिल्म थी.

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *