फिल्म

“मी टू” पर बोली लता मंगेशकर कहा,…सबक तो सिखाना ही चाहिए

Share Article

भारत रत्न और सुर साम्रज्ञी लता मंगेशकर ने मी टू पर दो टूक शब्दों में कहा है कि महिलाओं के सम्मान से खिलवाड़ करने वालों को सबको तो सिखाना ही चाहिए.

लता मंगेशकर ने हाल ही में एक इंटरव्यू में कहा है कि वो इस बात में विश्वास करती हैं कि काम पर जाने वाली महिलाओं को उनके काम की जगह पर पूरा सम्मान मिलना ही चाहिए. उसे उस स्पेस से वंचित नहीं किया जा सकता जिसकी वो अधिकारी है. लता दीदी ने कहा कि अगर कोई इसका उल्लंघन करता है या उसके सम्मान में बाधा पहुंचाता है तो उसे कड़ा से कड़ा सबक सिखाना चाहिए. लता मंगेशकर ने एक पुराने किस्से को याद किया जब उनके बारे में कहा गया था कि उन्होंने किसी समय एक गीतकार को धमकी दी थी. इस पर लता जी कहती हैं कि नहीं ऐसा पूरी तरह तो नहीं है लेकिन वो मेरे बारे में गलत बातें फ़ैला रहे थे जो कि सही नहीं था. जब मैं युवा अवस्था में थी तो मेरे में भी तेवर थे और तब मुझसे कोई पंगा नहीं ले सकता था.

जैसा कि आप सब को पता ही है कि इस समय देश भर में मी टू अभियान चल रहा है और बॉलीवुड से सबसे अधिक लोगों पर यौन शोषण का आरोप लगे है. पिछले दिनों अमिताभ बच्चन ने भी कहा था कि किसी भी महिला के साथ काम की जगह पर मिसबिहेव नहीं होना चाहिए. कोई ऐसा करता है तो तुरंत प्रभाव से उसे नोटिस में लाकर एक्शन लेना चाहिए. हर एजुकेशनल लेवल पर डिसिप्लिन, सिविक, सोशल और मॉरल करिक्यूलम को एडॉप्ट किया जाना चाहिए. सोयायटी में वुमन चिल्ड्रन और निचले सेक्शन इसके ज्यादा शिकार हो रहे हैं. इनके लिए स्पेशल प्रोटेक्टिव केयर होना चाहिए ताकि कोई भी कुछ गलत किसी के साथ ना कर सकें.

Sorry! The Author has not filled his profile.
×
Sorry! The Author has not filled his profile.

You May also Like

Share Article

Comment here