फेस्टिव सीज़न मनाने का सबसे अच्छा डेस्टिनेशन है गुजरात

हिंदू फेस्टिवल बिना नवरात्रि के अधूरा है. वैसे तो इसे उत्तर भारत के ज्यादातर जगहों पर मनाया जाता है लेकिन गुजरात में इसकी अलग ही धूम देखने को मिलती है. गरबा-डांडिया के साथ गुजरात में होता है नवरात्रि का आगाज़ यहां इस उत्सव को डांडिया और गरबा के रूप में मनाया जाता है जो पूरे दुनियाभर में मशहूर है. इस उत्सव की खासियत का अंदाजा आपको इसमें शामिल होने के बाद ही लगेगा. वसंत और शरद ऋतु की शुरूआत देवी दुर्गा के पूजन के लिए बहुत ही खास होता है. नौ दिनों तक मनाए वाले इस उत्सव में देवी दुर्गा के हर एक रूप की पूजा होती है. नौ रातों को तीन भागों में बांटा गया है. पहले तीन दिन मां दुर्गा को पूजा जाता है. उसके अगले तीन दिनों तक मां लक्ष्मी और अंत के तीन दिन मां सरस्वती की पूजा होती है. दसवें दिन विजया दशमी यानी दशहरा बढ़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है.

गुजरात के लोगों गरबे द्वारा मां को प्रसन्न करते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि मां दुर्गा को गरबा बहुत प्रिय है. मां दुर्गा की आरती के बाद शुरू होता है नवरात्रि उत्सव. नवरात्रि के पहले दिन मिट्टी का घड़ा स्थापित किया जाता है. जिसमें एक चांदी का सिक्का और दीपक रखा              जाता है. गरबा और डांडिया दो अलग-अलग चीज़ हैं. जहां गरबा मां दुर्गा तो वहीं डांडिया कृष्ण और गोपियों को समर्पित है. गुजरात में अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग प्रकार का गरबा देखने को मिलेगा. राजकोट में शेरी तो बड़ोदा का विशाल गरबा बहुत चर्चित है.

ये जगह है खास, यहां देखने को मिलती है नवरात्रि की अलग धूम

कच्छ में आशापुरा माता के मुख्य मंदिर ‘माता-नो-मढ़’, भावनगर के नज़दीक खोदियार मंदिर और अहमदाबाद-राजकोट नेशनल हाइवे पर चोटिला में चामुंडा मंदिर मशहूर हैं. जहां नवरात्रि की अलग ही रौनक देखने को मिलती है.

गुजरात घूमने के लिए ये सीज़न बिल्कुल परफेक्ट है क्योंकि इस समय मौसम तो अच्छा होता ही है साथ ही साथ आप इस त्योहार के मौसम में गुजरात के जायकों का भी खूब लुत्फ उठा सकते है.

गुजरात की पसंदीदा और मशहूर डिशेज़

ढ़ोकला                                 

गुजरात में हर एक गली की दुकान पर आप ढ़ोकले का स्वाद चख सकते हैं. दाल या बेसन से बनने वाली इस डिश को भाप में पकाकर उसे करी पत्ते और राई से छौंक लगाया जाता है और हरी या मीठी चटनी के साथ सर्व किया जाता है. खट्टी-मीठी ये डिश खाने में जितनी टेस्टी होती है उतनी ही हेल्दी और लाइट भी इसलिए इसे सुबह के नाश्ते से लेकर शाम की चाय के साथ कभी भी खा सकते हैं.

 

सेव टमाटर की सब्जी

गुजरात की थाली में परोसी जाने वाली सेव-टमाटर की सब्जी बहुत ही अलग तरह की डिश है. प्याज, टमाटर, हरी मिर्च और तीखे-चटपटे मसालों के साथ तैयार की जाने वाली इस करी बेसन से बनने वाले सेव डालकर इसे बिल्कुल अलग ट्विस्ट दिया जाता है. जिसे आप दाल-चावल से लेकर रोटी, पराठे हर एक के साथ एन्जॉय कर सकते हैं.

मोहनथाल

गुजराती मिठाई जिसका स्वाद यहां त्योहारों और खास मौकों पर घर-घर में चखने को मिल जाता है. वैसे यहां मिठाई की दुकानों पर आप फेस्टिवल के अलावा भी इसका स्वाद चख सकते हैं.

You May also Like

Share Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *